पाकिस्तान ने कश्मीर के अलगाववादी नेता गिलानी को दिया अपना सर्वोच्च नागरिक सम्मान

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान ने कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘निशान-ए-पाकिस्तान’ से सम्मानित करने का फैसला किया है।

सोमवार को पाकिस्तान के उच्च सदन द्वारा पारित एक प्रस्ताव में कहा गया है कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर में रहकर भारतीय फौजों और सरकारों के खिलाफ आवाज उठाई, जम्मू-कश्मीर के लोगों की आवाज बने। इसके अलावा पाकिस्तान ने गिलानी के नाम पर इस्लामाबाद में एक यूनिवर्सिटी बनाने की बात कही है।

प्रस्ताव में यह भी मांग की गई कि गिलानी की जीवनगाथा को राष्ट्रीय और प्रांतीय स्तर पर स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किया जाए। गिलानी को निशान-ए-पाकिस्तान से सम्मानित करने का प्रस्ताव पाकिस्तानी सीनेटर मुश्ताक अहमद ने लिया था, जिसे वहां के सदन ने ध्वनिमत से पास किया।

पाकिस्तानी सीनेट ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों के खत्म होने की पहली वर्षगांठ पर पाक अधिकृत कश्मीर में बनी अपनी कथित विधानसभा में एक विशेष सत्र बुलाने को भी मंजूरी दी है। बता दें कि गिलानी ने हाल ही में कश्मीर के अलगाववादी संगठन हुर्रियत से इस्तीफा दे दिया था।

एक ऑडियो संदेश जारी करते हुए उन्होंने इसका ऐलान किया था।  सैयद अली शाह गिलानी ने कहा था कि उन्होंने हुर्रियत से खुद को दूर कर लिया है। गिलानी को निशान-ए-पाकिस्तान से सम्मानित करने के इस फैसले पर जम्मू-कश्मीर भाजपा ने विरोध प्रकट किया है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE