Home राष्ट्रिय सिर्फ राम मंदिर के नाम पर सत्ता चाहती है बीजेपी: शंकराचार्य स्वरूपानन्द

सिर्फ राम मंदिर के नाम पर सत्ता चाहती है बीजेपी: शंकराचार्य स्वरूपानन्द

687
SHARE

द्वारकाशारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती का कहना हैं कि बीजेपी राम मंदिर बनवाना नहीं चाहती है। बल्कि बीजेपी का उद्देश्य राम मंदिर के नाम पर सत्ता हासिल करना है।

शंकराचार्य ने कहा, ‘‘भाजपा झूठ बोलती है कि केंद्र में उसकी सरकार है तो वह मंदिर बना सकती है। क्योंकि, संविधान के अनुसार सरकार धर्मनिरपेक्ष होती है। वह किसी एक धर्म विशेष का पक्ष लेकर मंदिर, मस्जिद, चर्च या गुरुद्वारा नहीं बना सकती। लेकिन फिर भी भाजपा चुनावों में इसी प्रकार के वादे कर वोट बटोरती आ रही है।’’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गौहत्या एवं जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 संबंधी मुद्दों पर उन्होने कहा, ‘‘अगर मोदी सरकार चाहे तो नोटबंदी के समान निर्णय लेकर एक ही झटके में गौमांस के निर्यात पर रोक लगाकर आजादी के 70 वर्ष गुजर जाने के बाद भी देश में जारी गौहत्या पर प्रभावी रोक लगा सकती है। लेकिन वह जानबूझकर ऐसा नहीं कर रही।’’ उन्होंने इसी प्रकार धारा 370 पर भी सरकार की आलोचना करते हुए कहा, ‘‘यह सरकार अब अपने वादे से पीछे हट गई है। अब उसे इन मुद्दों को सुनना व विचार करना भी बिल्कुल नहीं भाता।’’

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से नाराजगी प्रकट करते हुए द्वारका-शारदापीठ के शंकराचार्य ने कहा कि संत समाज का प्रतिनिधि होने के चलते योगी आदित्यनाथ से बहुत आशाएं थीं कि वह तो संत समाज की आस्थाओं के अनुसार कार्य करेंगे ही। लेकिन अफसोस है कि वह भी इसके बिल्कुल उलट कार्य कर रहे हैं। वह स्वयं मंदिर और प्राचीन विग्रहों को तोड़ने जैसा कार्य करा रहे हैं।
पंद्रह मई की शाम वाराणसी में एक निर्माणाधीन पुल गिरने की घटना के संबंध में उन्होंने कहा कि काशी में प्राचीन देव-विग्रह और मंदिर तोड़े जा रहे हैं। इससे संतों के साथ आमजन की भावनाएं भी आहत हुई हैं। इसी का परिणाम है कि काशी में पुल गिर गया।’
Loading...