सुप्रीम कोर्ट ने बदला अपना आदेश – सभी के लिए मुफ्त नहीं होगा अब कोरोना टेस्ट

कोरोना टेस्ट फ्री (Coronavirus Test) करवाने के अपने पुराने आदेश को बदलते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आज नया आदेश दिया कि कोरोना टेस्ट अब सभी के लिए फ्री नहीं होगा। अब इसका लाभ सिर्फ गरीबों को ही मिलेगा। नए आदेश के मुताबिक गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले, EWS और आयुष्मान भारत के मरीजों की टेस्टिंग फ्री होगी।

कोर्ट ने कहा कि कोरोना जांच सिर्फ वहीं प्रयोगशालाएं करें जो National Accreditation Board for Testing and Calibration Laboratories, विश्व स्वास्थ्य संगठन, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च से मान्यता प्राप्त हों। बता दें कि इससे पहले आदेश में देश की सर्वोच्च अदालत ने फैसला सुनाया था कि सरकारी या प्राइवेट दोनों की लैबों पर कोरोना वायरस की जांच फ्री होगी।

इसके साथ ही कोर्ट ने  कोरोना के बेहतर इलाज के लिए देश के सभी निजी अस्पतालों का राष्ट्रीयकरण करने की मांग वाली जनहित याचिका खारिज कर दी है। देश में कोरोना संकट को देखते हुए प्राइवेट अस्पतालों का राष्ट्रीयकरण करने को लेकर याचिका दायर की गई थी।

माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के ताजा आदेश के बाद मध्यमवर्गीय परिवार जरूर निराश होगा। आज भी बहुत से मध्यमवर्गीय परिवार हैं, जो बीमारी की वजह से गरीबी रेखा के नीचे पहुंच जाते हैं। ऐसे परिवारों को राहत देने लिए सरकार को कुछ तो कदम उठाने होंगे।

सरकार ने गरीबों के लिए कई स्कीम चलाई हैं और अमीरों के पास पैसों की कोई कमी नहीं है, लेकिन मध्यमवर्गीय परिवार बीच में घुन की तरह पिसता है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE