चीन विवाद पर बोले पीएम मोदी – ‘ना कोई हमारे क्षेत्र में घुसा, ना किसी पोस्ट पर कब्जा किया’

गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के हाथों 20 सैनिको की शहा’दत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत-चीन तनाव पर शुक्रवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कहा कि न कोई हमारे क्षेत्र में घुसा और न ही किसी ने हमारी चौकी पर कब्जा किया है।

उन्होने कहा, चीन ने जो किया है उससे पूरा देश आहत और आक्रोशित है। उन्होंने कहा कि भारत शांति और मित्रता चाहता है, लेकिन उसकी संप्रभुता सर्वोपरि है। उन्होने कहा, भारतीय सुरक्षा बल वह कर रहे हैं जो देश की रक्षा के उन्हें लिये करना चाहिये। फिर चाहे वह तैनाती की बात हो, कार्रवाई करने की बात हो या फिर जवाबी कार्रवाई की बात हो।उन्होंने कहा, ”नया बुनियादी ढांचा खड़ा होने से गश्त की हमारी क्षमता बढ़ी है। विशेषकर वास्तविक नियंत्रण रेखा पर।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक के बाद कहा कि न तो वहां कोई हमारी सीमा में घुसा हुआ है और न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है। लद्दाख में हमारे 20 जांबाज शहीद हुए लेकिन जिन्होंने भारत माता की तरफ आंख उठाकर देखा था, उन्हें वो सबक सिखाकर गए।

पीएम मोदी ने कहा कि डेवलपमेंट हो, एक्शन हो, काउंटर एक्शन हो, जल-थल-नभ में हमारी सेनाओं को देश की रक्षा के लिए जो करना है, वो कर रही है। आज हमारे पास ये क्षमता है कि कोई भी हमारी एक इंच जमीन की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देख सकता। आज भारत की सेनाएं, अलग-अलग सेक्टर्स में, एक साथ मूव करने में भी सक्षम है।

पीएम मोदी ने कहा कि बीते वर्षों में देश ने अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए, बॉर्डर एरिया में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट को प्राथमिकता दी है। हमारी सेनाओं की दूसरी आवश्यकताओं, जैसे फाइटर प्लेन, आधुनिक हेलीकॉप्टर, मिसाइल डिफेंस सिस्टम आदि पर भी हमने बल दिया है। नए बने हुए इंफ्रास्ट्रक्चर की वजह से खासकर एलएसी में अब हमारी पेट्रोलिंग की क्षमता भी बढ़ गई है।

बैठक में सोनिया गांधी ने सरकार से कुछ सख्त सवाल पूछे मसलन क्या एलएसी पर बने हालात पर कोई खुफिया विफलता हुई है? उन्होंने मोदी से आश्वासन देने को कहा कि सीमा पर यथास्थिति बहाल की जाएगी। सोनिया ने अपने शुरुआती बयान में कहा कि इस स्तर पर भी वे इस संकट के कई महत्वपूर्ण पहलुओं से अनभिज्ञ हैं।

उन्होंने सरकार के सामने सवाल रखे और पूछा कि चीनी सैनिकों ने भारतीय सीमा में कब प्रवेश किया? उन्होंने पूछा, ‘‘क्या सरकार के विचार से कोई खुफिया नाकामी हुई?” रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश शहीदों के बलिदान को कभी नहीं भूलेगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE