अर्णब को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत – गिरफ्तारी पर लगी रोक, अग्रिम जमानत के लिए मिला समय

महाराष्ट्र (Maharashtra) के पालघर में हुई दो साधुओं की लिंचिंग (Lynching) के मामले में टीवी में डीबेट के दौरान कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) के खिलाफ देश भर में एफ़आईआर दर्ज की गई थी। इस मामले में अब उन्हे सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है।

गोस्वामी की ओर से दायर याचिका पर आज (शुक्रवार) को सुप्रीम कोर्ट की दो सदस्यीय जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने अर्णब गोस्वामी को फौरी राहत दी और गिरफ्तारी पर तीन सप्ताह तक रोक लगा दी। सुप्रीम कोर्ट ने अपने अंतरिम आदेश में याचिकाकर्ता अर्णब गोस्वामी को 3 सप्ताह की अंतरिम सुरक्षा और उनके खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं करने का आश्वासन दिया।

कोर्ट ने यह भी कहा कि वह तीन सप्ताह में अग्रिम जमानत की अर्जी डाल सकते हैं। इसके अलावा, सुप्रीम कोर्ट ने अर्णब गोस्वामी के खिलाफ एक एफआईआर को छोड़कर सभी एफआईआर पर रोक लगा दी है। यह एक एफआईआर नागपुर में दर्ज किया गया था, जिसे अब मुंबई स्थानांतरित कर दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने मुंबई के पुलिस कमिश्नर को अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी को सुरक्षा प्रदान करने का भी निर्देश दिया है।

सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई के दौरान अर्णब गोस्वामी के लिए मुकुल रोहतगी ने पैरवी की, जबकि महाराष्ट्र के लिए कपिल सिब्बल, छत्तीसगढ़ के लिए विवेक तनखा, राजस्थान के लिए मनीष सिंघवी समेत कुल 8 वकील मौजूद रहे। सुनवाई के दौरान अर्णब के वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि उनके पक्षकार के खिलाफ अलग-अलग जगह एफआईआर दर्ज की गई हैं और सभी में लगभग एक जैसी शिकायतें हैं। इस पर कांग्रेस की ओर से पेश हुए वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि अर्णब के ऐसे बयानों से सांप्रदायिक हिंसा पैदा हो रही है। ऐसे में यदि एफआईआर दर्ज की गई हैं तो इसे कैसे रोक सकते हैं। जांच होने दीजिए, इसमें क्या गलत है।

उधर अर्णब ने आरोप लगाया कि मुंबई में गुरुवार रात को ऑफिस से घर लौटते वक्त 2 लोगों ने उनपर हमला करने की कोशिश की। पुलिस ने इस मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया है जिन्होंने अर्णब और उनकी पत्नी की कार पर स्याही फेंकी थी। हालांकि हमले में अर्णब और उनकी पत्नी को कोई चोट नहीं आई।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE