सेनेटाइजर मशीन बनाने वाले नाहरु खान ने अब बनाई पशुपतिनाथ मंदिर की घंटी, बिना हाथ लगाए बज उठेगी

पिछले दो महीनों से बंद मध्य प्रदेश के मंदसौर का पशुपतिनाथ मंदिर देश का एकलौता मंदिर है जिसमें कोरोना संकट के बीच भी घंटी बज रही है। दरअसल, एक मुस्लिम शख्स नाहरू खान ने सेंसर सिस्टम से तैयार घंटी को मंदिर में दान किया। बता दें कि देश में 8 जून से मंदिर भी खोल दिए गए हैं, लेकिन मंदिरों में घंटी बजाने पर पाबंदी लगी हुई।

ऐसे में नाहरू भाई ने विश्व प्रसिद्ध मंदिर पशुपति नाथ मंदिर की घंटी में सेंसर लगा दिया। डेढ़ फुट की दूरी से हाथ दिखाने पर अपने आप ही घंटी बजने लगती है। नाहरू भाई कहते हैं कि जब एक साथ मंदिर की घंटी और मस्जिद में अजान होगी तो हो सकता है कि ईश्वर हमें जल्दी से कोरोना से मुक्ति देगा।

वहीं मंदिर के पुजारी कहते हैं कि दर्शन के समय घंटी के माध्यम से भक्त भगवान से अपनी याचना कर सकते हैं। लेकिन कोरोना के कारण घंटी छूने से संक्रमण फैल सकता है इसलिए इसे हटा दिया गया था। हालांकि नाहरू भाई ने सेंसर बनाकर हमें दान दिया है, जिससे घंटी अब बिना छुए बजने लगी है।

नाहरू खान आगे बताते हैं कि तीन दिन की लगातार मेहनत के बाद सेंसर वाली घंटी बनकर तैयार हो गई।  इस घंटी को बजाने के लिए आपको सिर्फ इसके नीचे चेहरा या हाथ दिखाना है और फिर घंटी बजने लगेगी। मंदिर में आए भक्तों ने कहा कि इस तरह की घंटियों को हर एक मंदिरों में लगाया जाना चाहिए ताकि लोग संक्रमण से भी बचे रहें और भगवान के दर्शन भी करते रहें।

इसके अलावा नाहरु भाई ने भगवान पशुपतिनाथ मंदिर में सैनिटाइजर स्प्रे मशीन एवं हाथ धोने की दो मशीनें भेंट की हैं। इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग के लिए जांच स्केनर भी दिए हैं। मंदिर में आने वाले सभी भक्तों को इनका लाभ मिलेगा। सैनिटाइजर स्प्रे मशीन से पूरे परिसर में बार-बार सैनिटाइजर स्प्रे हो सके गा। हाथ धोने की मशीन को इस तरह से बनाया गया है कि यह मशीन पैरों से चलाई जाएगी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE