कोरोना से जंग में मुस्लिम भाईयों ने दान कर दी 25 बीघे की गेहूं की फसल

मध्य प्रदेश के गुना जिले में कोरोना संकट से निपटने के लिए दो मुस्लिम भाईयों ने अपने पूरे 25 बीघा के खेत में खड़ी गेहूं की फसल दान कर दी। दोनों भाइयों ने कलेक्टर को फसल दान करने की सूचना दे दी है। जिसके बाद प्रशासन ने फसल की कटाई भी शुरू करा दी है।

जानकारी के अनुसार, दोनों भाइयों का बीजी रोड भुल्लनपुरा स्थित खेत है। किसान रियाज जमा और उनके भाई मुस्तफा कमर जमा ने बताया कि शिया दाऊदी बोहरा जमात के धर्मगुरु आका मौला सैयदना सैफुद्दीन साहब ने अनुयायियों को निर्देश दिए हैं कि जितना संभव हो सके, जनकल्याण नीतियों पर चलें, गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करें।

सी को देखते अपने पिता शेख मोहम्मद जमा की स्मृति में खेत की फसल दान दी है, ताकि इसका वितरण प्रशासन जनकल्याण में कर सके। दोनों कृषक शहर के समाजसेवी और कांग्रेस नेता नूरुलहसन नूर के भतीजे हैं। नूर ने प्रशासन रिलीफ फंड में गेहूं दान करने के लिए दोनों भाइयों को प्रेरित किया था।

डिप्टी कलेक्टर आरबी सिंडोसकर की मौजूदगी में फसल काटी गई। देर शाम तक 60 क्विंटल गेहूं निकाला जा चुका है। बताया जा रहा है कि इतना ही गेहूं अभी और निकलेगा। इसे गुना कोरोना रिलीफ फंड में जमा किया जाएगा। वहीं दूसरी और देश के कई हिस्सों में मुस्लिमों के साथ भेदभाव देखने को मिल रहा है।

मरकज मामले के सामने आने के बाद मुस्लिमों के साथ हिंसा के मामले सामने आ रहे है। हिन्दू दुकानदार मुस्लिमो को सामान नहीं दे रहे है। सोशल मीडिया पर भी कोरोना जिहाद और थूक जिहाद जैसे ट्रेंड कराये जा रहे है। जो शर्मनाक है। फिर भी मुस्लिम मदद को आगे आ रहे है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE