मोदी सरकार ने की एतिहासिक होटल अशोक और सम्राट को बेचने की तैयारी

केंद्र की मोदी सरकार ने भारत के पहले और तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल में बने एतिहासिक होटल अशोक को बेचने की तैयारी कर ली है। इसके अलावा होटल सम्राट को बेचने का फैसला लिया जा सकता है। इस बारे मे ITDC के होटल की संपत्ति बेचने पर बैठक होने वाली है।

न्यूज़ 18 ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा कि इस मुद्दे पर इसी हफ्ते इंटर मिनिस्ट्रियल ग्रुप की बैठक होगी। होटल अशोक और होटल सम्राट कॉम्पलेक्स की बिक्री पर जल्द फैसला आ सकता है। इन संपत्तियों को बेचने से संबंधित रिपोर्ट को जल्द मंजूरी मिल सकती है।

कम से कम 3 सरकारी कंपनियों में विनिवेश की तरफ सरकार जल्द कदम बढ़ाने की तैयारी में है जिसमें CONCOR, ITDC और Ferro Scrap Nigam ltd के शामिल है। CONCOR यानी कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के लिए बोली अगले 3 से 4 हफ्ते में संभव है।  इस बिक्री से संबंधित EoI की शर्तों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

EoI की शर्तों को IMG से जल्द मंजूरी मिलेगी. सरकार 54.80 फीसदी में से 30.80 फीसदी हिस्सेदारी बेचना चाहती है। इसके अलावा FSNL यानी Ferro Scrap Nigam ltd को भी बेचने की प्रक्रिया तेज हुई है। स्टील मंत्रालय ने FSNL में पूरी हिस्सेदारी बेचने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है।

बता दें कि पंडित जवाहरलाल नेहरू ने सन 1955 में पेरिस में हुई यूनेस्को फोरम की बैठक में सुझाव दिया था कि भारत अगले साल समिट कराने के लिए तैयार है। लेकिन उस वक्त तक भारत में एक भी 5 स्टार होटल नहीं था, जहां विश्वभर से आने वाले गेस्ट को ठहराया जा सके। ऐसे में नेहरू ने 5 स्टार होटल अशोका को बनवाया गया था।

यह होटल संसद और राष्ट्रपति भवन के नजदीक है। इसमें 550 कमरे और 161 शूइट्स हैं। होटल में करीब 1000 कर्मचारी काम करते हैं, जिसके रोजाना के संचालन में करीब 35 लाख रुपए का खर्च आता है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE