Home राष्ट्रिय मॉब लिंचिंग पर बोले चीफ जस्टिस – सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज...

मॉब लिंचिंग पर बोले चीफ जस्टिस – सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज से बढ़ रही हैं घटनाएं

483
SHARE

देश में लगातार बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं को लेकर भारत के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल टेक्स्ट के कारण मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि समाज में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया को जांच के दायरे में लाना होगा और यह जांच स्वयं देश के जागरुक नागरिक ही कर सकते हैं।

चीफ जस्टिस ने कहा कि कई मामलों में यह भीड़तंत्र में बदल जाता है और जीवन की हानि होती है। उन्होने कहा कि कृपया मुझे गलत न समझे क्योंकि मैंने फैसला लिखा है।उन्होंने कहा कि भीड़ द्वारा की जा रही हत्याओं की घटनाओं में पिछले कुछ दिनों में इजाफा हुआ है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

CJI ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए पिछले दिनों खुद उन्होंने संसद से कड़ा कानून बनाने की सिफारिश की थी। उन्होंने लोगों से अपील की यदि वह कोई आपत्तिजनक संदेश अपने सोशल पेज पर देखते हैं तो उसे तुरंत डिलीट कर दें, उसे आगे ना बढ़ने दें।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली बेंच ने 17 जुलाई को केंद्र से कहा था कि पीट-पीटकर हत्या की घटनाओं से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए संसद नए कानून बनाए। कोई नागरिक कानून को हाथ में नहीं ले सकता और कानून-व्यवस्था बनाए रखना राज्यों का फर्ज है।

बेंच में शामिल जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा था कि राज्य सरकारों की यह जिम्मेदारी है कि समाज में कानून व्यवस्था और कानून का राज कायम करें। बेंच ने कहा कि राज्य इसे अनसुना नहीं कर सकते। भीड़तंत्र की घटनाओं से सख्ती के साथ निपटना होगा।

Loading...