गूगल प्ले स्टोर से हटाया गया Mitron ऐप, कंटेंट पॉलिसी उल्लंघन का आरोप

चीन के शॉर्ट वीडियो मेकिंग प्लेटफॉर्म टिक टॉक (Tik Tok) के विरोध में लाये गए मित्रों (Mitron)ऐप को गूगल प्ले स्टोर ने हटा दिया है। इस ऐप को फिलहाल पचास लाख लोग डाउनलोड कर चुके हैं।

दरअसल, हाल ही में खुलासा हुआ था कि यह ऐप किसी दूसरे ऐप का रिब्रांडेड वर्ज़न है, जिसे पाकिस्तान के एक डेवलपर द्वारा बनाया गया था। रिपोर्ट के अनुसार Google ने इसे ‘स्पैम और मिनिमम फंगशनेलिटी’ पॉलिसी का उल्लंघन करने की वजह से अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस ऐप के डेवलपर और आईआईटी रूड़की के छात्र शिबांक अग्रवाल ने सोर्स कोड एक पाकिस्तानी कोडिंग कंपनी Qboxus से खरीदा था, जिसके संस्थापक इरफान शेख थे। इसको फिर उसने रिब्रांड करके भारत में मित्रों के नाम से लॉन्च कर दिया था। अग्रवाल ने कोडिंग या फिर प्राइवेसी पॉलिसी में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया था। पाकिस्तानी कंपनी ने इस ऐप का नाम टिक टिक (Tic-Tic) रखा था और इसको बहुत ही सस्ती कीमत पर अग्रवाल को बेच दिया था।

Qboxus के संस्थापक और सीईओ इरफान शेख ने News18 को बताया कि, (अनुवादित) “डेवलपर ने जो किया है, उससे कोई समस्या नहीं है। उन्होंने स्क्रिप्ट के लिए पैसा दिया है और इसका इस्तेमाल किया, जो ठीक है। लेकिन, समस्या उन लोगों से हैं, जो इसे एक भारतीय-निर्मित ऐप बता रहे हैं, जो पूरी तरह से सच नहीं है, क्योंकि डेवलपर्स ने इस ऐप में कोई बदलाव नहीं किया है।”

इस कड़ी में CNBC-TV18 की रिपोर्ट बताती है कि गूगल ने ऐप को रेड फ्लैग देते हुए सस्पेंड कर दिया है और कहा है कि यह ऐप Google के ‘spam and minimum functionality’ पॉलिसी का उल्लंघन है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE