राहुल गांधी से बोले राजीव बजाज – ‘लॉकडाउन ने अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया

नई दिल्ली: जाने-माने उद्योगपति और बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज (Rajeev Bajaj) ने लॉकडाउन को लेकर मोदी सरकार की तीखी आलोचना की। उन्होने कहा कि देश में कठोर लॉकडाउन से अर्थव्यवस्था बर्बाद हो गई।

राजीव बजाज ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए भारत ने पूरब के बजाय पश्चिमी देशों की ओर देखा जबकि उनकी भौगोलिक स्थिति, जन्मजात प्रतिरोधक क्षमता, तापमान वगैरह बिल्कुल अलग हैं। भारत ने पश्चिम की नकल की। हमने सख्त लॉकडाउन को लागू करने की कोशिश की लेकिन उसे सही से लागू नहीं कर पाए। लेकिन इससे अर्थव्यवस्था को खत्म कर दिया। कोरोना के कर्व के बजाय जीडीपी के कर्व को फ्लैट कर दिया।

संकट से उबरने से जुड़े प्रश्न पर बजाज ने कहा, ‘हमें फिर से मांग पैदा करनी होगी, हमें कुछ ऐसा करना होगा जो लोगों के मूड को बदल दे। हमें मनोबल बढ़ाने की आवश्यकता है। मुझे समझ में नहीं आता है कि कोई मजबूत पहल क्यों नहीं की गई है?’ सरकार की ओर से घोषित आर्थिक पैकेज पर उन्होंने कहा कि दुनिया के कई देशों में जो सरकारों ने दिया है उसमें से दो तिहाई लोगों के हाथ में गया है। लेकिन हमारे यहां सिर्फ 10 फीसदी ही लोगों के हाथ में गया है।

बजाज ने कहा, ‘मुझे लगता है कि पहली समस्या लोगों के दिमाग से डर निकालने की है। इसे लेकर स्पष्ट विमर्श होना चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘मझे लगता है कि लोग प्रधानमंत्री की सुनते हैं। ऐसे में अब (उन्हें) यह कहने की जरूरत है कि हम आगे बढ़ रहे हैं, सब नियंत्रण में है और संक्रमण से मत डरिए।’ इस दौरान उन्होने ये भी खुलासा किया कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी से बात नहीं करने की नसीहत मिली थी।

राजीव बजाज ने राहुल गांधी से कहा, ”मैंने जब किसी को बताया कि मैं राहुल गांधी से बात करने जा रहा हूं। उसकी पहली प्रतिक्रिया थी, मत करो। इससे आपको परेशानी हो सकती है।” राजीव बजाज के मुताबिक उस शख्‍स ने कहा, मीडिया में बोलना अलग बात है, लेकिन राहुल गांधी से बातें करना दूसरी बात है।

वहीं बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने राजीव बजाज को एक घटना के बारे में बताया. राहुल गांधी ने कहा, ” कल, मेरे एक मित्र ने मुझसे पूछा कि आपका अगला संवाद किसके साथ है? और मैंने उसे बताया कि मैं मिस्टर बजाज से बात कर रहा हूं। इस पर उस आदमी ने कहा कि दम है बंदे में.. ” राहुल गांधी के मुताबिक उन्‍होंने पूछा कि इसका क्या मतलब? तो इस सवाल पर मेरे मित्र ने कहा ”अच्छा है, उनमें आपसे बात करने की हिम्मत है।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE