CAA-NRC के खिलाफ जामिया के छात्रों का मार्च, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

संशोधित नागरिकता कानून (CAA), NRC और NPR के विरोध में जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने आज संसद भवन तक मार्च का आयोजन किया। लेकिन मार्च करने से रोकने पर पुलिस के साथ उनकी भिड़ंत हो गई। जिसके बाद दर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया।

पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया से कुछ ही दूरी पर स्थित होली फैमिली अस्पताल के पास प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए उनपर लाठीचार्ज किया। पुलिस ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को संसद की ओर मार्च करने की इजाजत नहीं थी।

इस दौरान प्रदर्शनकारी ‘कागज नहीं दिखाएंगे’ और ‘जब नहीं डरे हम गोरों से तो क्यों डरे हम औरों से’ जैसे नारे लगा रहे थे। प्रदर्शन में कई महिलाएं भी थीं। हाथों में कई लोग तिरंगा थामे हुए थे और ‘हल्ला बोल’ के नारे लगा रहे थे। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मानव श्रृंखला भी बनाई’

मार्च का का आह्वान जामिया समन्वय समिति ने नागरिकता संशोधन कानून(CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर(NRC) के विरुद्ध किया था। प्रदर्शनकारी जेबा अनहद ने कहा, ‘दो महीने से हम प्रदर्शन कर रहे हैं। हमसे बात करने के लिए सरकार की तरफ से कोई नहीं आया, इसलिए हम उनके पास जाना चाहते हैं।’

जामिया की एक छात्रा का इस मामले पर कहना है कि उस पर महिला पुलिसकर्मी ने हमला किया और बुर्का उतार फेंका। वहीं समाजवादी पार्टी के आधिकारिक टि्वटर हैंडल से ट्वीट किया गया है कि दिल्ली में सीएए के खिलाफ शांतिपूर्ण मार्च पर निकले छात्रों पर लाठीचार्ज अत्यंत दुखद है। संविधान विरोधी कानून से मिले विरोध के मौलिक अधिकार को भी सत्ता तले कुचला जा रहा है।  घायल छात्रों के प्रति संवेदना है। हम इस कायरता की भर्त्सना करते है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE