राम मंदिर पर पोस्ट को लेकर पत्रकार प्रशांत कनौजिया को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

अयोध्या स्थित राम मंदिर को लेकर कथित विवादित पोस्ट करने के मामले में यूपी पुलिस ने ऐक्टिविस्ट और स्वतंत्र पत्रकार प्रशांत कनौजिया को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दिल्ली स्थित उनके आवास से गिरफ्तार किया है। हालांकि बाद में उन्हें जमानत मिल गई।

FIR के अनुसार, प्रशांत कनौजिया ने सोशल मीडिया पर जाति, धर्म व वर्ग को बाँटने से संबंधित टिप्पणी की थी। इससे समाज में भय का माहौल हो गया था। शांति व्यवस्था प्रभावित होने की आशंका पर पुलिस ने आरोपित के खिलाफ आइटी एक्ट, सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने व जालसाजी समेत विभिन्न धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है।

प्रशांत कन्नौजिया के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली के दारोगा दिनेश कुमार शुक्ला ने मुकदमा दर्ज कराया। शुक्ला ने कहा कि प्रशांत कन्नौजिया का आपत्तिजनक पोस्ट से विभिन्न समुदाय में वैमनस्य फैलाना, सामाजिक सद्भाव व धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाला है। इसके बाद हजरतगंज कोतवाली में 153A, 153B, 420, 465, 469, 500, 505 IT एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी की भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने आलोचना की है। चंद्रशेखर ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि बहुजन पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी उत्तर प्रदेश सरकार के तानाशाह रवैए का प्रमाण है। अब लोगों के लिखने-पढ़ने और आवाज उठाने से सरकार को तकलीफ होने लगी है। हम लगातार आपातकाल के दौर से घिरते जा रहे हैं। तत्काल प्रशांत कनौजिया की रिहाई सुनिश्चित की जाए।

बता दें कि यूपी पुलिस द्वारा इससे पहले भी एक मामले में प्रशांत कनौजिया को गिरफ्तार कर चुकी है। इससे पहले बीती साल प्रशांत कनौजिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। जिस पर यूपी पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार भी किया था।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE