कोरोना से संक्रमित हुआ पत्रकार तो एम्स की इमारत से कूदकर दे दी जान

नई दिल्ली: कोरोना (Coronavirus) रिपोर्ट पॉजिटिव आने से परेशान दैनिक पत्रकार ने एम्स की इमारत की चौथी मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी। पत्रकार की पहचान तरुण सिसोदिया के रूप में की गई है। वह अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ भजनपुरा में रहता था।

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण-पश्चिम) देवेंद्र आर्य ने बताया कि यह घटना दोपहर लगभग दो बजे हुई, जिसके बाद उस व्यक्ति को अस्पताल के आईसीयू में ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे बचाने की कोशिश की। उन्होंने बताया कि 24 जून को संक्रमण की पुष्टि होने के बाद पत्रकार को ट्रामा सेंटर के कोविड​​-19 वार्ड में भर्ती कराया गया था।

तरुण के घर में पत्नी और दो बेटियां है जिनमें से एक ढाई साल की तो दूसरी 2 महीने की है। बताया जा रहा है कि उनके इलाज में लापरवाही बरती जा रही थी। इस घटना के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने ट्वीट किया, ‘‘मैंने एम्स निदेशक को इस मामले की आधिकारिक जांच तत्काल शुरू करने के आदेश दिए हैं, जिसके बाद एक उच्च स्तरीय समिति गठित की गई और वह 48 घंटे में रिपोर्ट जमा करेगी।’’

डॉ हर्षवर्द्धन ने गहरा दुख भी जाहिर किया है। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा कि युवा पत्रकार तरुण सिसोदिया के निधन से गहरा धक्‍का लगा. यह बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण घटना है। इस दुख को व्‍यक्‍त करने के लिए शब्‍द नहीं हैं। ईश्‍वर इस घड़ी में शोक संतप्‍त परिजनों, पत्‍नी और मासूम बच्‍चों को इस दुख को सहने की शक्ति दे।

आरोप है कि ट्रामा सेंटर प्रशासन ने तरुण के फोन को जब्त करके उन्हें ICU में शिफ्ट किया, ताकि वो आगे कोई शिकायत ना कर पाएं और अंदर की अव्यस्था की कहानी बाहर न जा सके। तरुण को वेंटिलेटर की जरूत थी। कुछ दिनों पहले खबर आई थी कि तरुण अपने वॉर्ड से गायब हैं, उनका फोन भी बंद था। हालांकि हेल्थ बीट कवर करने वाले पत्रकारों को इसकी जानकारी हो गई थी।

वहीं एम्स का कहना है कि तरुण मानसिक रूप से भी रोगी थे। उनका न्यूरोलॉजिस्ट और साइकियाट्रिक ट्रीटमेंट चल रहा था। सोमवार दोपहर करीब 1.55 बजे तरुण आईसीयू से भागकर चौथे फ्लोर पर आ गए और खिड़की से छलांग लगा दी।अस्पताल ने बयान में कहा, “परिवार के सदस्यों को उसकी हालत के बारे में लगातार जानकारी दी जाती थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE