र’क्त के थक्के पर शोध के लिए जामिया के प्रोफेसर को मिला पुरस्कार

0
531

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रो. जाहिद अशरफ को कम ऑक्सीजन के कारण उच्च ऊंचाई पर र’क्त के थक्के जमने पर उनके ऐतिहासिक शोध के लिए राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा विजिटर्स अवार्ड 2020 से सम्मानित किया जाएगा। प्रो जाहिद अशरफ का शोध चरम मौसम की स्थिति में घनास्त्रता के निदान और उपचार में समस्या के समाधान में एक बड़ी सफलता है। उन्हें वैज्ञानिक और शिक्षक के रूप में 20 वर्षों का अनुभव है।

विश्वविद्यालय में जैव प्रौद्योगिकी विभाग के प्रमुख के रूप में शामिल होने से पहले, प्रोफेसर अशरफ डीआरडीओ के रक्षा फिजियोलॉजी और संबद्ध विज्ञान संस्थान (डीआईपीएएस) में जीनोमिक्स डिवीजन के प्रमुख थे। प्रो. अशरफ नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज और इंडियन एकेडमी ऑफ साइंसेज के निर्वाचित फेलो हैं। वह गुहा रिसर्च काउंसिल के सदस्य भी हैं।

विज्ञापन

प्रो. जाहिद अशरफ बिहार में अपने शुरुआती स्कूल के दिनों से ही अनुसंधान और रचनात्मक सरलता के लिए आकर्षित हुए थे, जहां उनका जन्म हुआ था। प्रोफेसर अशरफ ने कहा, “जब मैं संयुक्त राज्य अमेरिका में क्लीवलैंड क्लिनिक में आठ साल के शोध से लौटने पर डीआरडीओ में शामिल हुआ, जहां रक्त’ के थक्के विकारों को व्यापक रूप से पहचाना जाता है, तो मैंने पाया कि ऊंचाई पर तैनात हमारे सै’निकों के लाभ के लिए  स्थानीय शोध की आवश्यकता है।”

इसके बाद उन्होंने र’क्त में ऑक्सीजन की कमी से संबंधित सभी कारणों और प्रभावों की खोज की जो शरीर के विभिन्न अंगों को प्रभावित करते हैं जो घनास्त्रता की ओर ले जाते हैं। उन्होने कहा, “हमने पाया कि र’क्त में ऑक्सीजन की कमी न केवल हमारे सैनि’कों को बल्कि खिलाड़ियों, पर्वतारोहियों, पर्वतारोहियों और अन्य लोगों को भी प्रभावित करती है जो साहसिक कार्य में लगे हैं।

“हमने डीआरडीओ वैज्ञानिकों के साथ एक समग्र दृष्टिकोण अपनाया और पाया कि बीमारी के विकास में उपन्यास नियामक ‘कैलपेन’ की बढ़ती उपस्थिति र’क्त के थक्के का कारण बनने वाले प्रमुख कारकों में से एक है। ऑक्सीजन की कमी वाले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में थक्के के कारण स्ट्रोक या अचानक दिल का दौरा पड़ सकता है।”

जामिया की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने इस सम्मान के लिए प्रोफेसर अशरफ को बधाई दी है। दरअसल, जामिया ने अपने योगदान के लिए विजिटर्स अवॉर्ड के लिए प्रोफेसर अशरफ के नाम की सिफारिश की थी। 2015 के बाद यह दूसरी बार है, जब किसी जामिया वैज्ञानिक को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here