सेंट्रल यूनिवर्सिटी की रैंकिंग में जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी सबसे ऊपर

एंटी सीएए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान चर्चा में रही जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी शिक्षा मंत्रालय की सेंट्रल यूनिवर्सिटी की रैंकिंग लिस्ट में पहले स्थान पर आई है। जामिया विश्वविद्यालय को 90 फीसदी स्कोर के साथ रैंकिंग में पहला नंबर मिला है।

शिक्षा मंत्रालय की सेंट्रल यूनिवर्सिटी के प्रदर्शन पर की गई ग्रेडिंग/स्कोरिंग में दूसरे नंबर पर 83% स्कोर के साथ अरुणाचल प्रदेश की राजीव गांधी यूनिवर्सिटी आई है, वहीं तीसरे नंबर पर 82% स्कोर के साथ जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी आई है। इसके अलावा पिछले दिनों विवाद में रहने वाली अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी 78% स्कोर के साथ चौथे नंबर पर आई है।

यूनिवर्सिटियों का मूल्यांकन 2019-20 में तय किए गए एमओयू के हिसाब से किया गया है। दरअसल, सेंट्रल यूनिवर्सिटी रैंकिंग में विश्वविद्यालयों का मूल्यांकन कई पैमानों के आधार पर किया गया है। जिसमें विभिन्न पाठ्यक्रमों यूजी, पीजी, पीएचडी में छात्रों की संख्या और लैंगिक अनुपात भी शामिल है। इसके अलावा कैंपस प्लेसमेंट भी इस चयन का आधार बनता है। नेट और गेट परीक्षा में सफल होने वाले विद्यार्थियों के आधार पर भी यह रैंकिंग तैयार हुई।

वित्तीय अधिकारों को लेकर भी रैंकिंग में एक पैमाना रखा गया. यूनिवर्सिटी को अलग-अलग कोर्स की फीस में इजाफा करने के लिए कहा गया था। निर्देश थे कि यूनिवर्सिटी अपने वित्तीय लेनदेन में वित्त मंत्रालय द्वारा 2017 में जारी किए गए जनरल फाइनेंशियल रूल्स को अपनाए।

जामिया मिल्लिया ने बयान जारी करके कहा- ‘सभी यूनिवर्सिटी को शिक्षा मंत्रालय और यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन के साथ ट्राइपार्टी MoU साइन करना था। 2017 में जामिया पहली यूनिवर्सिटी थी जिसने ये MoU साइन किया था और अपने मूल्यांकन के लिए अर्जी दी थी।’


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE