केंद्रीय मंत्री शेखावत के खिलाफ 824 करोड़ के घोटाला के केस में जांच के आदेश

राजस्थान की गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रचने के आरोपो के बीच केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के खिलाफ जयपुर की एक अदालत ने क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी घोटाले मामले में आरोपों की जांच के निर्देश दिए हैं।

बाड़मेर निवासी गुमनाम सिंह और लाबू सिंह के अनुरोध पर कोर्ट ने संजीवनी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी के 824 करोड़ के घोटाले में इन सभी लोगों के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। पुलिस की तरफ से केंद्रीय मंत्री के खिलाफ जांच के लिए अदालत से इजाजत मांगी गई थी। अब एसओजी गजेंद्र सिंह शेखावत,उनकी पत्नी और उनके सहयोगी से पूछताछ करेगी।

मंगलवार को अतिरिक्त जिला न्यायाधीश पवन कुमार ने अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत को शेखावत के खिलाफ शिकायत एसओजी को भेजने का निर्देश दिया। शिकायतकर्ता के मुताबिक उन्होंने संजीवनी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी में लाखों रुपये जमा कराए थे और सोसाइटी ने सारे पैसे गजेंद्र सिंह शेखावत और उनके सहयोगियों की कंपनियों में लगाया था।

इस बीच सोसाइटी करोड़ों रुपये के घोटाले में फंस गई। शिकायतकर्ता के वकील ने बताया कि हमारे मुवक्किल ने पोस्टर और रिकॉर्ड देखकर इस सोसाइटी में पैसे लगाए थे। इस सोसाइटी का गजेंद्र सिंह शेखावत की कंपनियों से घनिष्ठ संबंध थे।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री शेखावत पर राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार को अस्थिर करने के षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप लगाते हुए रविवार को उनके त्याग पत्र की मांग की थी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE