बिना लॉक डाउन हटे 11 लाख लोगों को वापस बुला पाना संभव नहीं: अशोक गहलोत

जयपुर. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश के अलग-अलग हिस्सो से प्रदेश में लौटने की चाहत रखने वाले लोगो को लेकर कहा कि बिना लॉक डाउन (Lockdown) हटे इतने लोगों को वापस बुला पाना संभव नहीं है।

न्यूज़ 18 के अनुसार, सीएम ने देर रात कोरोना समीक्षा बैठक में कहा कि राजस्थान में लगभग 18 लाख लोग अंतर-राज्यीय आवागमन के लिए रजिस्टर करा चुके हैं, जिनमें से 11 लाख लोग प्रदेश में आने वाले हैं। इतनी बड़ी संख्या में लोगों को यहां आना तब तक संभव नहीं है, जब तक नियमित रूप से सड़कें, हवाई और रेल सेवाएं बहाल नहीं हो जाती। प्रवासी धैर्य बनाए रखें आने की जल्दबाजी नहीं करें।

गहलोत ने कहा है कि आवागमन के लिए प्राथमिकता उन लोगों को मिलनी चाहिए जो धार्मिक यात्रा, पर्यटन, व्यापार या अस्थाई रूप से किसी दूसरे राज्य में गए और अचानक लॉकडाउन के कारण वहां फंस गए हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने भी ऐसे लोगों को अपने गृह स्थान जाने के लिए यह छूट दी है। शेष प्रवासियों से आग्रह है कि धैर्य बनाए रखें और अपने स्थान पर रहें। उन्होंने कहा कि जो भी व्यक्ति दूसरे राज्य में आएगा उसे 14 दिन के लिए क्वारंटान की असुविधा का सामना करना पडे़गा, इसलिए जल्दबाजी नहीं करें।

राजस्थान की सीमाओं को सील करने के मामले में सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान की दूसरे राज्यों के साथ सीमाओं पर प्रवासियों के प्रवेश को रोका नहीं गया है, बल्कि अंतरराज्यीय आवागमन को सुगम बनाने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। ई-पास वालों को राजस्थान में प्रवेश पर कोई रोक नहीं है। इसी प्रकार, राजस्थान में फंसे हुए अन्य राज्यों के प्रवासी भी भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार अनुमति लेकर अपने स्थान पर जा सकते हैं।

वहीं गहलोत ने शुक्रवार सुबह ट्वीट करते हुए लोगों से लॉकडाउन की आगे भी पालन करने की अपील की। उन्होंने लिखा कि कोरोनावायरस का खतरा बना हुआ है। हम सभी को सतर्क रहने के साथ लॉकडाउन नियमों का पालन करना होगा। अब जैसे-जैसे प्रवासी लौट रहे हैं, सभी को अधिक सतर्क रहना होगा। आने वाले लोगों को अनिवार्य रूप से 14 दिनों तक क्वारैंटाइन में रहना होगा।

गहलोत ने लिखा मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंस बनाए रखना, बिना किसी वैध कारण के बाहर जाने से बचना, ये कुछ सावधानियां हैं जिनका हमें लगातार पालन करना है। बार-बार हाथ धोना और सड़कों पर थूकना नहीं है। राज्य सरकार आपके साथ है। हर तरह से मदद करने की कोशिश कर रही है। हमारी जान बचाने के लिए पूरी कोशिश कर रही है। जब परीक्षण और रिकवरी की बात आती है तो राजस्थान अन्य राज्यों से आगे है। यह डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों के समर्पण और लोगों के समर्थन से ही मुमकिन हो पाया है। हम कोरोना को पूरी तरह से हराने के लिए आपका सहयोग चाहते हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE