भारतीय राजदूत ने मुस्लिमों के खिलाफ यूएई में भारतीयों के अभ्रद्र व्यवहार की निंदा की

निज़ामुद्दीन मरकज मामले के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर फेक खबरे चलाकर मुस्लिमो को कोरोनावायरस फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया गया। इसमे यूएई में रहने वाले भारतीय भी पीछे नहीं रहे। ऐसे में अब संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में भारत के राजदूत पवन कपूर ने भारतीयो को नसीहत दी है।

भारतीय राजनयिक पवन कपूर ने ट्वीट किया, ‘भारत और यूएई भेदभाव न करने के मूल्य को साझा करता है। भेदभाव हमारे नैतिक तानेबाने और कानून के नियमों के खिलाफ है। यूएई में मौजूद भारतीय नागरिकों को इसका ख्याल रखना चाहिए।’

उन्होंने पीएमओ के ट्वीट को भी रीट्वीट किया. पीएमओ ने ट्वीट किया था, ‘कोविड19 किसी धर्म, जाति, संप्रदाय, रंग, भाषा और सीमा को नहीं देखता। हमारी प्रतिक्रिया और व्यवहार ऐसा होना चाहिए कि जो एकता और भाइचारे को बढ़ाए।  हम इसमें एकजुट हैं। ‘

दरअसल मुस्लिमों के खिलाफ भारतीयों के ट्वीट को लेकर अरब के लोगों में भारी नाराजगी है। खुद यूएई की राजकुमारी हेंद अल कासिमी ने भी इस ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया दी और कहा कि हमारा देश इस तरह के व्‍यवहार को सहन नहीं करेगा और ऐसे लोगों को देश छोड़ने को कहा जा सकता है। इसके अलावा 57 मुस्लिम देशों के संगठन के इंडिपेंडेंट परमानेंट ह्यूमन राइट्स कमीशन (IPHRC) ने भी इस मामले में आपत्ति जाहिर की।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE