मेहुल चौकसी को लाने की तैयारी में भारत सरकार?, एंटीगुआन पीएम बोले – निर्वासन दस्तावेज लेकर डोमिनिका भेजा गया निजी जेट

एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधान मंत्री गैस्टन ब्राउन ने अपने देश में एक रेडियो शो में बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि भारत ने 13,500 करोड़ रुपये के बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में वांछित भगोड़े व्यवसायी मेहुल चोकसी के निर्वासन से संबंधित दस्तावेजों को लेकर डोमिनिक एक निजी जेट भेजा है। हालांकि, इस बारे में भारतीय अधिकारियों की ओर से तत्काल कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

एंटीगुआ न्यूज रूम ने बताया कि कतर एयरवेज का एक निजी जेट डोमिनिका के डगलस-चार्ल्स हवाई अड्डे पर उतरा, जिससे चोकसी के निर्वासन के बारे में अटकलें लगाई गईं, जिसे पड़ोसी एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमय तरीके से गायब होने के बाद कैरेबियाई द्वीप रा’ष्ट्र में हिरासत में लिया गया था।

ब्राउन ने रेडियो शो को बताया कि जेट भारत से आया था जो व्यवसायी के चोकसी के लिए आवश्यक दस्तावेज लेकर आया था। कतर की कार्यकारी उड़ान A7CEE के सार्वजनिक रूप से उपलब्ध आंकड़ों से पता चलता है कि यह 28 मई को दोपहर 3.44 बजे दिल्ली हवाई अड्डे से रवाना हुई और उसी दिन स्थानीय समयानुसार 13.16 बजे मैड्रिड के रास्ते डोमिनिका पहुंची।

डोमिनिका उच्च न्या’यालय ने चोकसी को उसकी धरती से हटाने पर रोक लगा दी है और दो जून को खुली अदालत में मामले की सुनवाई होने तक घटनाक्रम पर रोक लगा दी है। चोकसी ने आरोप लगाया है कि एंटीगुआ और भारतीय जैसे दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने उन्हें एंटीगुआ और बारबुडा के जॉली हार्बर से अगवा कर डोमिनिका ले जाया गया।

डोमिनिका में सामने आई 62 वर्षीय चोकसी की कथित तस्वीरों में लाल सूजी हुई आंख और हाथों पर चोट के निशान के साथ दिखाई  दे रहे हैं। चोकसी और उसका भतीजा नीरव मोदी सरकारी पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से कथित तौर पर 13,500 करोड़ रुपये के सार्वजनिक धन की हेराफेरी करने के मामले में वांछित है।