Home राष्ट्रिय भारत है यौन हिंसा मामलों में महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे...

भारत है यौन हिंसा मामलों में महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश

1950
SHARE

लंदन: मंगलवार को जारी वैश्विक विशेषज्ञों के एक सर्वेक्षण के मुताबिक, भारत यौन उत्पीड़न के उच्च जोखिम और गुलाम श्रम में मजबूर करने की वजह से महिलाओं के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश है.

अफगानिस्तान और सीरिया ने थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन में महिलाओं के मुद्दों पर 550 विशेषज्ञों के सर्वेक्षण के बाद दूसरा और तीसरा स्थान दिया, इसके बाद सोमालिया को चौथा स्थान दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अरब न्यूज़ के मुताबिक, शीर्ष 10 पशिमी देशों में हिंसा और यौन उत्पीड़न में एकमात्र संयुक्त राज्य अमेरिका है, जो संयुक्त तीसरे स्थान पर रहा जब उत्तरदाताओं से पूछा गया कि जहां महिलाओं को यौन हिंसा, उत्पीड़न और यौन संबंध में शामिल होने का जोखिम है.

Indian demonstrators gather at the India Gate monument for a late night candlelight vigil in protest over the gang rape and murder of an eight-year-old girl, in New Delhi on April 13, 2018. (AFP)

2011 में एक सर्वेक्षण किया गया था जिसमें विशेषज्ञों ने अफगानिस्तान, कांगो, पाकिस्तान, भारत और सोमालिया के महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक देशों के रूप में देखा गया था.

विशेषज्ञों ने कहा कि भारत ने सर्वेक्षण के शीर्ष स्थान हासिल किया. उन्होंने कहा की भारत तबसे पहले स्थान पर है जब पांच साल पहले दिल्ली में चलती बस में महिला के साथ गैंगरेप किया गया था.

कर्नाटक राज्य सरकार के एक अधिकारी मंजुनाथ गंगाधारा ने कहा, “भारत ने महिलाओं के लिए पूरी तरह से उपेक्षा और अपमान दिखाया है . बलात्कार, वैवाहिक बलात्कार, यौन उत्पीड़न जैसे कई मामले सामने आते रहते है.

The controversial Hindu chief Gurmeet Ram Rahim Singh dubbed the “guru in bling” headed there to await a verdict in his rape trial. (AFP)

दुनिया की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था और अंतरिक्ष और प्रौद्योगिकी में नेता महिलाओं के खिलाफ हिंसा के लिए शर्मिंदा है.” सरकारी आंकड़ों से पता चलता है कि 2007 और 2016 के बीच महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जब हर घंटे बलात्कार के चार मामले सामने आते है. भारत के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने सर्वेक्षण परिणामों पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है.

Loading...