Home राष्ट्रिय आठ वर्षीय आसिफा के बलात्कारी और हत्यारों को बचाने के लिए एक...

आठ वर्षीय आसिफा के बलात्कारी और हत्यारों को बचाने के लिए एक हुआ शासन-प्रशासन

182
SHARE

जम्मू में 8 साल की बच्ची से रेप के बाद मर्डर केस में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी है.यह मामला जनुअरी का है. बच्ची को कठुआ जिले के एक मंदिर के कमरे में नशे की दवाईयों से बंदी बनाया गया फिर पूरी घटना को अंजाम दिया गया. इस मामले के बाद से आरोपियों को पकड़ने की मांग को लेकर काफी प्रदर्शन हो रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची का शव 17 जनवरी को कठुआ के रसाना जंगलों से बरामद किया गया था. आपको बता दें कि बच्ची एक हफ्ते से लापता थी. पीड़ित बच्ची खानाबदोश मुस्लिम समुदाय से थी और बताया गया है कि उसके कुनबे को हटाने के लिए यह साजिश रची गई थी. इसके लिए आरोपियों को काम पर लगाया गया था.

जम्मू में बकरवाल समुदाय के लोगों में डर पैदा करने के लिए बच्ची के साथ इस तरह की वारदात को अंजाम दिया गया. घटना के मुख्य आरोपी सनज रामठे, उसके बेटे विशाल, सब इंपेक्टर आनंद दत्ता और दो स्पेशल पुलिस ऑफिसर्स दीपक खजूरिया और सुरेंदर वर्मा, हेड कॉन्स्टेबल तिलक राज और परवेश कुमार पर हत्या, रेप और आपराधिक साजिश का मामला दर्ज किया गया है.

मासूम बच्ची को कई दिन तक बंदी बनाए रखने के बाद घायल बच्ची से कई बार रेप किया गया. दर्रिदों पर आरोप है कि मामले की जांच कर रहे विशेष पुलिस अधिकारी खजूरिया ने बच्ची की हत्या किए जाने से इसलिए रोका क्योंकि वह भी पहले रेप करना चाहता था. रेप के बाद शव को जंगल में फेंक दिया.

आपको बता दें कि, जब क्राइम ब्रांच टीम चार्जशीट दाखिल करने पहुंची तो वकीलों के समूह ने रोकने की कोशिश की. हालांकि, चार्जशीट फाइल कर दी गई और बाद में वकीलों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई. वकील मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे थे. उनका आरोप है कि जांच को सांप्रदायिक आधार पर पक्षपात के साथ किया गया है.