कोरोना से लड़ने के लिए भारत को वर्ल्ड बैंक से मिला 1 अरब डॉलर का लोन

कोरोना संकट के बीच विश्व बैंक ने भारत को एक अरब डॉलर (लगभग 7,500 करोड़ रुपये) का लोन मंजूर किया है. जिसका इस्तेमाल कोरोना वायरस संकट के दौरान शहरी गरीबों और प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए जाना है. इससे पहले अप्रैल में भी वर्ल्ड बैंक ने भारत को करीब 1 अरब डॉलर की रकम का लोन जारी किया था।

वर्ल्ड बैंक ने यह मंजूरी गरीबों व महामारी के प्रति संवेदनशील परिवारों के लिए भारत सरकार के अनवरत प्रयासों को देखते हुए दिया है. इस तरह से अब तक कोरोना संकट से निपटने के लिए वर्ल्ड बैंक की ओर से भारत को दो अरब डॉलर की राशि जारी की जा चुकी है.

इसके अलावा ब्रिक्स देशों के न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) ने भी भारत को एक अरब डॉलर की आपातकालीन सहायता राशि देने देने की घोषणा की थी. इस तरह से अब तक कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत को दो अरब डॉलर की राशि जारी की जा चुकी है.

भारत के लिए विश्व बैंक के निदेशक जुनैद अहमद ने कहा, ‘सामाजिक दूरी के कारण अर्थव्यवस्था में मंदी आई है. भारत सरकार ने गरीब कल्याण योजना पर ध्यान केंद्रित किया है ताकि गरीबों और कमजोर लोगों को बचाने में मदद मिल सके. एक स्वास्थ्य पुल बनाया जा रहा है और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने का कार्य किया जा रहा है.’

वहीं, आपातकालीन सहायता राशि का एलान करते हुए एनडीबी ने कहा था कि वह यह कर्ज इसलिए दे रहा है ताकि भारत को कोविड-19 के प्रसार को रोकने में मदद मिले और कोरोना वायरस महामारी के कारण होने वाले मानवीय, सामाजिक और आर्थिक नुकसान को कम किया जा सके.


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE