भारत ने मिस्र, यूएई, उज्बेकिस्तान, बांग्लादेश से रेमदेसीवीर के लिए किया संपर्क

कोरो’ना संकट के बीच भारत सरकार ने मिस्र, उज्बेकिस्तान, यूएई और बांग्लादेश जैसे देशों से रेमदेसीवीर के लिए संपर्क किया है। इन देशों में भारतीय मिशन इस दवा की खरीद को सुविधाजनक बनाने के लिए काम कर रहे हैं।

एंटीवायरल दवा की तीव्र कमी का सामना करते हुए, भारत ने इस महीने की शुरुआत में रेमेड्सविर के लिए कच्चे माल  के आयात पर आयात शुल्क माफ कर दिया था। बावजूद इसके देश में इस दवा की बड़े पैमाने पर मारामारी जारी है।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने ताजा हालात पर कहा है कि हम दुनिया के विभिन्न हिस्सों से 500 से अधिक ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों को प्राप्त करने की दिशा में काम कर रहे हैं। हम विदेश से 4,000 ऑक्सीजन सांद्रता और 10,000 ऑक्सीजन सिलेंडर प्राप्त करने के लिए काम कर रहे हैं।

विदेश सचिव ने ये भी बताया कि भारत में आम तौर पर प्रतिदिन रेमेडिसविर की 67,000 खुराक का उत्पादन होता है, लेकिन वर्तमान में हमें दो से तीन लाख खुराक की जरूरत है। हमने अपने उत्पादकों से क्षमता बढ़ाने के लिए कहा है। कंपनियों को कच्चे माल की जरूरत है। यही वह जगह है जहां हमें अमेरिकी सरकार का समर्थन प्राप्त है, जिसने कच्चा माल उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है।

इसके अलावा, विदेश सचिव ने बताया कि वह मिस्र से रेमेडिसवीर की 400,000 शीशियों को खरीदने के लिए भी काम कर रहे हैं।