मोदी सरकार का फैसला – अयोध्या के राम मंदिर में दान देने वालों को मिलेगी आयकर में छूट

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट को आयकर अधिनियम की धारा 80 जी के तहत रखने का फैसला किया, और इस संबंध में एक अधिसूचना जारी की।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार शुक्रवार को एक अधिसूचना में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र एक ऐतिहासिक महत्व वाली जगह है और पूजा के लिए लोकप्रिय मानी जाती है। इनकम टैक्स के सेक्शन 80जी के सब सेक्शन-2 के अंतर्गत आने वाले क्लोज बी के अनुसार दान करने वालों को 50 फीसदी तक की छूट दी जाएगी।

हालांकि ट्रस्ट की आय को अन्य अधिसूचित धार्मिक ट्रस्टों की तरह आयकर अधिनियम की धारा 11 और 12 के तहत छूट दी जाएगी। जबकि धारा 80जी के तहत छूट सभी धार्मिक ट्रस्टों को उपलब्ध नहीं है। एक चैरिटेबल या धार्मिक ट्रस्ट को पहले धारा 11 और 12 के तहत आयकर छूट के लिए पंजीकरण आवेदन करना होता है, जिसके बाद धारा 80 जी के तहत छूट दान दाताओं को दी जाती है।

बता दें कि ट्रस्ट के लिए 5,000 करोड़ रुपए एकत्रित करने का लक्ष्य रखा गया है और भव्य मंदिर के निर्माण हेतु धन दान करने के लिए प्रत्येक भारतीय से संपर्क किया जाएगा। राम जन्मभूमि ट्रस्ट का खाता खुलने के बाद आधिकारिक तौर पर 2 अप्रैल को इस बारे में जानकारी दी गई। इस खाते में 9 अप्रैल तक 5 करोड़ से ज्यादा रकम जमा हो चुकी थी। दान करने वालों में सबसे ज्यादा वो लोग थे, जो एक रुपए से लेकर 11 हजार तक की रकम खाते में डाल रहे हैं।

इससे पहले केंद्र सरकार ने 2017 में चेन्नई के अरुलमिगु कपलिस्वरर थिरुकोइल, कोट्टिवक्कम के अरियाकुडी श्री श्रीनिवास पेरुमल मंदिर और सज्जनगढ़, महाराष्ट्र में श्री राम और रामदास स्वामी समाधि मंदिर (मंदिर) और रामदास स्वामी मठ को धारा 80जी के तहत कटौती की अनुमति दी थी। अन्य धार्मिक स्थानों जैसे गुरुद्वारा श्री हरमंदिर साहिब, अमृतसर के दान कर्ताओं को भी आयकर अधिनियम की धारा 80 जी के तहत छूट दी गई है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE