आईएएस खेमका का लॉकडाउन को लेकर तंज – किसी VIP को लाइन में खड़ा नहीं देखा

हरियाणा के चर्चित आइएएस अधिकारी डा. अशोक खेमका ने लॉकडाउन को लेकर तंज़ कसा है. उन्‍होंने वीआइपी कल्‍चर और अफसरों व नेताओं को सीधे निशाने पर लिया।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा- मैंने किसी वीवीआईपी को इस लॉकडाउन अवधि में भी जीवन की आवश्यक जरूरतों के लिए जनसाधारण की लाइन में खड़े होते नहीं देखा। हां, उन्हें दूसरों को सामान वितरित करते और फोटो खींचवाते हुए जरूर देखा है। जाके पांच न फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई।

बता दें कि पिछले साल नवंबर महीने में सीनियर आईएएस अशोक खेमका का 53वां तबादला किया गया था। उन्हें अभिलेखागार, पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग में प्रमुख सचिव बनाया गया था। खेमका इससे पहले विज्ञान एवं तकनीक विभाग के प्रमुख सचिव पद पर कार्यरत थे। 8 महीने बाद खेमका का यह तबादला किया गया था।

तबादला होने के बाद खेमका ने ट्वीट कर अपना दुख जाहिर किया था। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि फिर तबादला, लौट कर फिर वहीं। आज सर्वोच्च न्यायालय के आदेश एवं नियमों को एक बार और तोड़ा गया। कुछ प्रसन्न होंगे। अंतिम ठिकाने जो लगा, ईमानदारी का ईनाम जलालत।

कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान 2012 में खेमका ने राबर्ट वाड्रा की कंपनी के डीएलएफ कंपनी के साथ हुए जमीनी सौदे को रद्द कर दिया था। इस मामले में आरोप था कि वाड्रा को सस्ती दर पर जमीन दी गई और उन्होंने महंगे रेट पर डीएलएफ को जमीन बेची है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE