हिंदू महासभा की मांग – विदेशियों को एयरपोर्ट पर पिलाए गोमूत्र, डोनाल्ड ट्रंप को भी भेजा जाए

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में कोरोनावायरस (Coronavirus) को लेकर साफ-सफाई पर ज़ोर दिया जा रहा है।डबल्यूएचओ ने इसे महामारी घोषित कर दिया तो वहीं भारत सरकार इसे राष्ट्रीय आपदा करार दे चुकी है। लेकिन कुछ लोगों को इस पर भी नोटंकी सूझ रही है।

दरअसल, अखिल भारतीय हिंदू महासभा (Akhil Bhartiya Hindu Mahasabha) ने दावा किया कि गोमूत्र पीने से कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है। हिंदू महासभा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चक्रपाणी महाराज ने केंद्र सरकार से मांग की है कि जो भी विदेशी नागरिक भारत आता है, उसे पहले एयरपोर्ट पर गोमूत्र पिलाने के साथ गोबर में स्‍नान कराया जाए, उसके बाद ही उसे देश में घूमने की इजाजत दी जाए।

इतना ही नहीं हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के लोग कह रहे हैं, “हम अपनी सरकार से मांग करते हैं कि एयरपोर्ट पर शराब बैंन करिये और उसकी जगह गोमूत्र रखवाएं और गोबर लगवाएं। ट्रंप को भी गोमूत्र भेज रहे हैं।  अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  जी (Donald Trump) को भिजवाया जाएगा, प्रधानमंत्री जी के पास जा रहे हैं, प्रधानमंत्री जी तो स्वंय पीते हैं।”

चक्रपाणि ने दावा किया कि गोमूत्र ‘कोविड-19’के लिए एकमात्र इलाज है और वैश्विक नेताओं से इसे पीने तथा इस संक्रामक रोग के खिलाफ लड़ाई में एक उदाहरण पेश करने का अनुरोध किया। उन्होंने दावा किया, ‘‘हमारे सभी नेता और अधिकारी गोमूत्र पीते हैं। लेकिन वे बीमार पड़ने पर ही बंद कमरे में ही ऐसा करते हैं । लेकिन यह इस तरह काम नहीं करता।’’ चक्रपाणि ने जोर देते हुए कहा कि बीमारियों को दूर रखने के लिए गोमूत्र रोजाना पीना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘गोमूत्र जीवनदायिनी है। हर किसी को इसे पीना चाहिए।’’ कार्यक्रम एक यज्ञ के साथ शुरू हुआ और गाय तथा वायरस की प्रार्थना की गई। साथ ही, वायरस से शांतिपूर्वक चले जाने तथा और अधिक लोगों को नुकसान नहीं पहुंचाने को कहा गया। कार्यक्रम में पृष्ठभूमि में लगे एक बड़े पोस्टर पर भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार को कोरोना वायरस के रूप में प्रदर्शित किया गया था। चक्रपाणि ने जोर देते हुए कहा कि वैश्विक नेताओं को भारत से गोमूत्र मंगाना चाहिए क्योंकि यह करिश्माई औषधि देने वाली गाय सिर्फ भारतीय नस्ल की है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE