अंतराष्ट्रीय बाजार में गिरा कच्चे तेल का दाम, केंद्र ने बढ़ाई पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी

रूस और सऊदी अरब के प्राइस वार के चलते अंतरराष्ट्रीय बाजार में पिछले सप्ताह से कच्चे तेल के दामो में भारी गिरावट है। बावजूद मोदी सरकार ने इसका सीधा फाइदा जनता को देने के बजाय पेट्रोल-डीजल पर 3 रुपए प्रति लीटर की दर से एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी।  इसके अलावा पेट्रोल और डीजल पर लगने वाला सड़क उपकर भी एक-एक रुपये प्रति लीटर बढ़ाकर 10 रुपये कर दिया गया है।

बता दें कि तीन रुपये की बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी की दर 22.98 रुपये प्रति लीटर हो जाएगी। इसी प्रकार डीजल पर एक्साइज दर 15.83 रुपये प्रति लीटर से बढ़कर 18.83 रुपये हो जाएगी। एक्साइज ड्यूटी में इस बढ़ोतरी से सरकार को करीब 39 हजार करोड़ रुपए की अतिरिक्त कमाई होगी।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेज एंड कंस्टम्स की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि पेट्रोल पर स्पेशल एक्साइज ड्यूटी को 2 रुपए से बढ़ाकर 8 रुपए प्रति लीटर किया गया है। वहीं डीजल पर इसकी दर को 2 रुपए प्रति लीटर से बढ़ाकर 4 रुपए कर दिया गया है। पेट्रोल-डीजल पर रोड सेस 1 रुपए प्रति लीटर बढ़ाकर 10 रुपए कर दिया गया है।

साल 2014 में पेट्रोल पर टैक्स 9.48 रुपये प्रति लीटर था और डीजल पर 3.56 रुपये। नवंबर 2014 से जनवरी 2016 तक केंद्र सरकार ने इसमें नौ बार इजाफा किया। इन 15 सप्ताह में पेट्रोल पर ड्यूटी 11.77 और डीजल पर 13.47  रुपये प्रति लीटर बढ़ी। इसकी वजह से 2016-17 में सरकार को 2,42,000 करोड़ रुपये की कमाई हुई, जो 2014-15 में 99,000 करोड़ रुपये थी। बाद में अक्तूबर 2017 में यह दो रुपये कम की गई। हालांकि इसके एक साल बाद ड्यूटी में फिर से 1.50 रुपये प्रति लीटर का इजाफा किया गया। इतना ही नहीं, जुलाई 2019 में यह एक बार फिर दो रुपये प्रति लीटर बढ़ा दी गई।

एंजेल ब्रोकिंग के एनजीर् एवं करेंसी रिसर्च मामलों के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने बताया कि अंतरार्ष्ट्रीय बाजार में इस सप्ताह कच्चे तेल के दाम में भारी गिरावट आई है और अभी तेजी की कोई संभावना नहीं दिख रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में गहराता जा रहा है और तेल बाजार की हिस्सेदारी को लेकर छिड़ी जंग के कारण तेल के दाम पर दबाव बना हुआ है। गुप्ता ने कहा कि अगर कच्चे तेल का भाव इसी तरह नीचे रहा तो आने वाले दिनों मे पेट्रोल और डीजल के दाम में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE