देखे Video: CAA के विरोध में गवर्नर आरिफ मोहम्मद ने मजबूरी में विधानसभा में पढ़ा भाषण

केरल विधानसभा में बुधवार को विधानसभा सत्र के शुरू होने पर राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने अभिभाषण के दौरान नागरिकता संशोधन कानून 2019 के खिलाफ भाषण पढ़ा। जिसमे उन्होने केंद्र सरकार से आग्रह किया है कि इस नागरिकता संशोधन कानून 2019 को खत्म करे।

हालांकि अभिभाषण से पहले उन्होने एक स्पष्टीकरण भी दिया।  जिसमे राज्यपाल ने कहा कि मैं जो पैरा 8 पढ़ने जा रहा हूं व्यक्ति रूप से मैं उसका समर्थन नहीं करता। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के कहने पर मैं इस पैरा को पढ़ रहा हू। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने खुद अपनी तरफ से मुझे पत्र लिखकर इसे पढ़ने को कहा है। यह सरकार का मत है। इसलिए उनकी इच्छा का सम्मान करते हुए मैं इसे पढ़ रहा हूं। उन्होंने कहा कि मेरा अपना मत है कि यह नीति और कार्यक्रम के अंतर्गत नहीं आता है।

विधानसभा में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (UDF) के विधायकों ने राज्यपाल के विरोध में जमकर नारेबाजी की राज्यपाल के सदन में पहुंचते ही विधायकों ने नारेबाजी करना शुरु कर दी। कुछ विधायकों ने उनके सदन में आने का रास्ता रोका। इसके बाद विधानसभा के मार्शलों ने राज्यपाल के लिए रास्ता बनाया और उन्हें उनकी सीट तक ले गए। जब राज्यपाल ने अपना अभिभाषण शुरू किया तो UDF के विधायकों ने सदन से वाकआउट कर दिया।

विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने राष्ट्रपति से राज्यपाल को वापस बुलाने की मांग करते हुए कहा कि सदन में सीएए के खिलाफ सर्वसम्मति से पास हुए प्रस्ताव का राज्यपाल द्वारा विरोध करने का तरीका सही नहीं है।

बता दें कि केरल सीएए के खिलाफ राज्य विधानसभा में प्रस्ताव पारित करने वाला और नये कानून को चुनौती देने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाने वाला पहला राज्य है। राज्यपाल ने पिछले दिनों कहा था कि कामकाज के नियम की धारा 34(2) की उपधारा 5 के तहत प्रदेश सरकार को राज्य और केंद्र के रिश्तों को प्रभावित करने वालों की जानकारी राज्यपाल को देनी चाहिए।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE