​चीनी सैनिकों ने पहले से की थी हम’ले की तैयारी, घटनास्थल से मिली कील-मुड़ी छड़ें

नई दिल्ली । ​​गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। चीनी सैनिकों ने गश्ती दल पर घात लगाकर ह’मला किया था। दरअसल, घटनास्थल से भारतीय सैनिकों ​ने कील-मुड़ी हुई छड़ें ​बरामद की।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 16 जून की रात को भारतीय सैनिक जब गश्त पर थे तो साजिश ​के ​तहत उनकी गाड़ी को नदी में गिरा दिया ​गया, जिससे करीब 17 ​भारतीय ​सैनिक नदी में गिरने से शहीद हो गए, ​जबकि ​3 ​जवान चीनी सैनिकों के सीधे हमले के दौरान​ मारे गए​।​

रिपोर्ट में कहा गया कि चीनी सैनिकों ने पत्थर, लोहे की रॉड और कील लगे हथियार लेकर घात लगाए बैठे हुए थे​। इतना ही नहीं भारतीय सेना के पलटवार ​से बचाव का सामान भी चीनी सेना ने तैयार रखा था​​​।​​ एक मीडिया रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस घटना में चीन के 43 नहीं 143 सैनिक मारे गए ​हैं​​​​​।

भारतीय सेना ​के सूत्रों ​ने ​बताया है कि ​केंद्र शासित प्रदेश लद्दा ख में डेमचोक और पैंगोंग के पास के गांवों को खाली ​करवाकर नागरिकों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया है। आने वाले दिनों में कुछ और गांवों को खाली कराया जाएगा​​

भारत और चीन के सैनिकों के बीच लद्दाख की गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद बुधवार को पीएम मोदी ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, ‘‘जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। देश की संप्रभुता सर्वोच्च है। देश की सुरक्षा करने से हमें कोई भी रोक नहीं सकता। इस बारे में किसी को भी जरा भी भ्रम या संदेह नहीं होना चाहिए।’’

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘‘भारत शांति चाहता है, लेकिन भारत उकसाने पर हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम में है। हमारे दिवंगत शहीद वीर जवानों के विषय में देश को इस बात का गर्व होगा कि वे मारते-मारते मरे हैं..’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को इस मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक बुलाई है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE