पीएम मोदी की आलोचना पर विनोद दुआ पर एफ़आईआर, पत्रकारों ने किया विरोध

मोदी सरकार की आलोचना करना भी देश में जुर्म बन गया है। दरअसल, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पत्रकार विनोद दुआ के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। ये एफ़आईआर भाजपा के प्रवक्ता नवीन कुमार की शिकायत पर दर्ज की गई है।

नवीन कुमार ने अपनी शिकायत में कहा है की विनोद दुआ ने अपने  ‘‘द विनोद दुआ शो’’ के माध्यम से ‘‘फर्जी सूचनाएं फैला’’ रहे हैं। नवीन ने आरोप लगाया है कि विनोद दुआ ने फरवरी में दिल्ली में हुए दंगों पर गलत रिपोर्टिंग की। साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जब भाजापा जॉइन की, तब भी उन पर गलत संदर्भ में रिपोर्टिंग करने का आरोप है। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने भादंसं की धारा 290, 505 और 505 (2) के तहत मामला दर्ज किया है।

FIR दायर होने की जानकारी विनोद दुआ ने अपने फेसबुक पेज के ज़रिये दी। दुआ ने अपने फेसबुक पर लिखा,” प्रिय दोस्तों ,बीजेपी ने मेरे खिलाफ दिल्ली पुलिस में FIR दर्ज़ करवाया है। क्या मैं इतना महत्त्व रखता हूँ ?” हालांकि इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में उन्होंने बताया कि अभी तक दिल्ली पुलिस ने उनसे कोई संपर्क नहीं किया है।

दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज़ की गई FIR और नवीन कुमार के खिलाफ पत्रकारों में रोष दिखाई दे रहा है। पत्रकार आशुतोष ने भी विनोद दुआ के खिलाफ हुई FIR का विरोध किया है। आशुतोष ने ट्वीट करके कहा की ,” विनोद दुआ देश के आइकोनिक पत्रकार है और FIR के मुताबिक वो देश के लिए खतरा है। अगर ऐसा है तो देश का हर पत्रकार भी देश के लिए खतरा है। यह कुछ नहीं बस प्रेस की आवाज़ दबाने की कोशिश है।”

पत्रकार  माधवन नारायणन ने भी ट्विटर के ज़रिये अपना विरोध जताया है। माधवन ने ट्वीट करके कहा की ,” जिस वक़्त पत्रकारों से सवाल पूछने पर सवाल किया जाता है उसी वक़्त लोकतंत्र की हत्या होनी शुरू होती है। जब तक फ्रीडम ऑफ़ थॉट की आज़ादी नहीं होती है तब तक फ्रीडम ऑफ़ प्रेस किस काम का।”

वहीँ पत्रकार अभिसार शर्मा ने भी विनोद दुआ के खिलाफ हुई पर FIR हैरानी जताई है। अभिसार शर्मा ने कहा की ,” विनोद दुआ देश के बड़े पत्रकार है और उन्होंने हमेश अपनी बात को सलिखे से देश के सामने रखा है।” अभिसार ने आगे,”  अगर विनोद दुआ ने ऐसा कोई स्टेटमेंट दिया है तो वो जांच का मामला है। लेकिन सवाल यह उठता है की दिल्ली हिंसा को लेकर बीजेपी के नेता इतने जल्दी जागे है?” साथ ही उन्होने दिल्ली दंगों का मामला उठाते हुए कहा, कपिल मिश्रा के खिलाफ कोई कार्यवाई नहीं हुई, चार्जशीट में कपिल मिश्रा का नाम नहीं लिया गया। लेकिन विनोद दुआ के खिलाफ सीधे मामला दर्ज़ किया गया कोई जांच भी नहीं की गई।”

इसके अलावा पत्रकार अरफ़ा ख़ानम शेरवानी ने भी विनोद दुआ के खिलाफ दायर FIR का विरोध किया है। उन्होंने ट्वीट करके कहा की ,” आइकोनिक पत्रकार विनोद दुआ के “द विनोद शो” के खिलाफ FIR दर्ज़ की गई है। यह हमला सिर्फ विनोद दुआ पर नहीं है बल्कि हम सब पर है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में आज उनलोगो पर हमला किया जा रहा जो लोकतंत्र के साथ खड़े रहते है। प्रेस की आवाज़ को दबाना बंद करो अब।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE