फेसबुक की डायरेक्टर अंखी दास के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले में FIR दर्ज

रायपुर पुलिस ने 17 अगस्त को भारत में फेसबुक की पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखी दास के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले में FIR दर्ज की है। यह शिकायत पत्रकार आवेश तिवारी ने दर्ज कराई है। इसमें अंखी दास के अलावा दो अन्य लोगों की भी आरोपी बनाया गया है।

फेसबुक की पॉलिसी प्रमुख अंखी दास पर आरोप है, कि उन्होंने भाजपा नेताओं की नफ़रत भरी पोस्ट्स को बढ़ावा दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दास ने “लोकसभा चुनाव से पहले अपने कर्मचारियों पर कई हेट स्पीच पोस्ट न हटाने का दबाव डाला था।” रिपोर्ट के मुताबिक, यह “भारतीय बाजार में राजनीतिक फायदा उठाने के लिए” किया गया था।

क्विंट के अनुसार, तिवारी ने अपनी शिकायत में कहा कि दास ने सिन्हा और साहू की मिलीभगत से “हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच द्वेष पैदा करने के मकसद से कॉन्टेंट पब्लिश करने और सर्कुलेट करने के लिए फेसबुक का इस्तेमाल किया।” ये दोनों FIR अमेरिकी अखबार द वॉल स्ट्रीट जर्नल की एक रिपोर्ट सामने आने के बाद दर्ज हुई हैं।

दूसरी ओर फेसबुक डायरेक्टर की ओर से भी दिल्ली में आवेश समेत पांच अन्य के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। टीआई लक्ष्मी जायसवाल ने बताया कि आवेश तिवारी ने सोमवार रात रिपोर्ट दर्ज कराई है। फेसबुक पर 16 अगस्त को उन्होंने 8 बिंदुओं के साथ एक पोस्ट किया था।

यह पोस्ट एक अमेरिकी अखबार के हवाले से था, जिसमें उन्होंने पोस्ट किया कि हेट स्पीच के जिन नियमों के तहत पिछले कुछ सालों से फेसबुक सरकार के खिलाफ बोलने वाले लोगों को प्रतिबंधित कर रहा है और कट्टर विचारों वाले पोस्ट की अनदेखी कर रहा है उसके लिए अंखी दास जिम्मेदार हैं।

इस पोस्ट के बाद उन्हें धमकियां मिलने लगी। मुंगेली के राम साहू और इंदौर के विवेक सिन्हा ने उनके खिलाफ अश्लील और अभद्र पोस्ट किया है। उन्हें जान से मारने की धमकी दी। उनकी पोस्ट को दो संप्रदाय के खिलाफ बताया गया। जबकि उन्होंने ऐसा पोस्ट नहीं किया है। उनकी पोस्ट के बाद से लगातार उन्हें धमकियां मिल रही है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE