कोरोना वायरस से जुड़ी प्रेस कांफ्रेंस में हवा को शुद्ध करने के लिए जलाए गए ‘गोबर के उपले’

पूरी दुनिया में कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते दुनिया भर में हाहाकार मचा हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इस लाइलाज बीमारी को महामारी घोषित कर चुका है। इसके साथ संगठन ने सभी देशों से सावधानी बरतने की अपील की है।

दूसरी और महाराष्ट्र के उस्मानाबाद शहर में कोराना वायरस पर जिला प्रशासन द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में ‘गोबर के उपले’ जलाए गए और दावा किया गया कि इससे हवा शुद्ध होती है। जिलाधिकारी ने बताया कि इसका उद्देश्य उपले जलाये जाने से हवा को स्वच्छ बनाने में मिलने वाली मदद को दिखाना था।

बता दे कि यह सम्मेलन जिलाधिकारी के कार्यालय में आयोजित हुआ था। इस दौरान सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज की एक टीम ने घर पर वायु को स्वच्छ रखने के तरीखे दिखाए।

जिलाधिकारी दीपा मुधोल मुंडे ने बताया, ‘‘बाजार में मिलने वाली अगरबत्तियों के स्थान पर, उन्होंने दिखाया कि कैसे गोबर के उपले और आयुर्वेद में बतायी गयी कुछ अन्य सामग्री वायु को स्वच्छ बनाने में मदद कर सकती है।” उन्होंने कहा कि संवाददाता सम्मेलन कोरोना वायरस पर था और इसका इस गतिविधि से कोई संबंध नहीं था।

बता दें कि कोरोना वायरस से कर्नाटक में एक व्यक्ति की मौ*त हो गई है। भारत में कोरोना वायरस से मौत का यह पहला मामला है। यह मौ*त कर्नाटक के कलबुर्गी में हुई ।  मृ*तक की उम्र 76 साल बताई जा रही है। मरीज सऊदी अरब से लौटा था। वहीं, देश में अब तक कोरोना वायरस के 75 मामलों की पुष्टि हो चुकी है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE