No menu items!
27.1 C
New Delhi
Monday, September 27, 2021

काशी विश्वनाथ में बिना मास्क के उमड़ी भक्तों की भीड़ – सोशल डिस्टेंसिंग का भी नहीं हुआ पालन

- Advertisement -

को’रोना महामारी का विकराल रूप दूसरी लहर में देखने के बावजूद भी मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों की अवहेलना जारी है। सावन महीने के दूसरे सोमवार यानि आज वाराणसी स्थित विश्व प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath) मंदिर में बिना मास्क के भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं हुआ।

एएनआई के मुताबिक, सावन के दूसरे सोमवार के दिन बड़ी संख्या में लोग वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करने के लिए पहुंचे। इस दौरान श्रद्धालुओं ने गंगा नदी में डुबकी भी लगाई। तस्वीरों में साफ देखा जा सकता है कि घाटों पर भारी भीड़ मौजूद लेकिन, कई लोगों ने मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग सहित कई कोरोना संबंधी मानदंडों का उल्लंघन किया।

इसी बीच कोरो’ना महामारी के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में मुहर्रम पर जुलूस निकालने की इजाजत नहीं होगी। इसे लेकर यूपी पुलिस ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। डीजीपी ने पुलिस अधीक्षकों को धर्म गुरुओं से संवाद बनाने, सभी महत्वपूर्ण स्थलों की चेकिंग करने, बीट स्तर पर हालातों की समीक्षा कर व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए गए हैं।

इसी बीच सर्कुलर की भाषा को लेकर शिया समुदाय ने नाराजगी जाहीर की है। शिया धर्मगुरुओं का कहना है कि सर्कुलर में पुलिस-प्रशासन ने गलत भाषा का इस्तेमाल किया गया है। मुहर्रम सर्कुलर के विरोध मे मौलाना कल्बे जवाद ने पूरे प्रदेश की मुहर्रम कमेटियों को पुलिस की किसी भी मीटिंग मे शामिल नहीं होने का आदेश दिया है।

मौलाना कल्बे जवाद ने कहा की ये बयान डीजीपी का नही बल्कि अबुबक्र बग़दादी का प्रतीत हो रहा है। शिया सुन्नी में जब भी गड़बड़ी हुई है तो पुलिस और प्रशासन के एजेंटों ने फैलाई है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article