लाल किले पर 15 अगस्त को खालिस्तानी ध्वज फहराने की साजिश, हाई अलर्ट पर सुरक्षा एजेंसी

प्रतिबंधित सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले पर खालिस्तान का झंडा फहराने वाले को 125,000 डॉलर का इनाम देने की घोषणा की है। जिसके बाद इंटीलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने बड़ा अलर्ट जारी किया है।

खालिस्‍तानी संगठन एसएफजे के कानूनी सलाहकार गुरपतवंत सिंह पन्नु ने सोशल नेटवर्किंग साइटों पर एक संदेश डाला है। उसके मुताबिक अगर कोई 15 अगस्‍त को लाल किले पर खालिस्‍तान का झंडा फहराता है तो उसे 125,000 डॉलर का इनाम दिया जाएगा। पन्नु का कहना है कि 15 अगस्त हमें 1947 में बंटवारे के समय हुई त्रासदी की याद दिलाता है। हमारे लिए कुछ भी नहीं बदला है।

खालिस्तान समर्थक समूह ने पिछले महीने घोषणा की थी कि उसने 15 अगस्त को अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, इटली, जर्मनी, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में भारतीय दूतावासों के सामने स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान अपने अलगाववादी एजेंडे ‘रेफरेंडम 2020’ के लिए मतदाता पंजीकरण शिविर आयोजित करने की योजना बनाई है।

इसके अलावा ‘रेफरेंडम 2020’ की वकालत करने के लिए जुलाई 2019 में गृह मंत्रालय द्वारा प्रतिबंधित एसएफजे ने चार जुलाई से पंजाब, दिल्ली और जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग पोर्टलों के माध्यम से ‘रेफरेंडम 2020’ के लिए अपना ऑनलाइन मतदाता पंजीकरण शुरू करने का प्रयास किया, मगर संगठन कथित तौर पर समर्थन नहीं जुटा सका।

इस मामले में भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने पन्नु और उसके साथियों के खिलाफ 6 एफआईआर दर्ज की हैं। इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 45,000 से ज्यादा सुरक्षाकर्मी पहरा देंगे। लाल किले के चारो ओर पांच किलोमीटर की परिधि में ऊंची इमारतों पर 2,000 से अधिक स्नाइपर्स की तैनाती की जाएगी।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE