पीएम मोदी के आर्थिक पैकेज पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, कहा – “अधिकांश पैकेजिंग, न्यूनतम मायने”

नई दिल्ली: कोरोनावायरस और उसके आर्थिक प्रभावों से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज (Economic Package) के ऐलान पर विपक्ष ने सवाल उठाये है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने बुधवार को कहा, “अधिकांश पैकेजिंग, न्यूनतम मायने।” कांग्रेस नेता ने अपने ट्वीट में लिखा- “कल रात प्रधानमंत्री ने वही किया जो उन्हें अच्छी तरह आता है। मैक्सिमम पैकेजिंग, मिनिमम मीनिंग। यह क्लासिक नमो का उदाहरण है।”

इससे पहले कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेरवाला ने ट्वीट कर लिखा, ‘माननीय मोदी जी, आपने सम्बोधन से मीडिया को ख़बर बनाने को ‘हेडलाइन’ तो दे दी पर देश को ‘मदद की हेल्पलाइन’ का इंतज़ार है। वादे से हक़ीक़त तक का सफ़र पूरा होने का इंतज़ार रहेगा। एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘घर वापसी करते लाखों प्रवासी मज़दूर भाईयों को राहत, घाव पर मरहम, आर्थिक सहायता व सुरक्षित घर लौटने की मदद पहली ज़रूरत है। उम्मीद थी आज आप इसकी घोषणा करेंगे। देश राष्ट्रनिर्माता मज़दूरों व श्रमिकों के प्रति आपकी निठुरता व असवेंदनशीलता से निराश है।’

वहीं तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने पीएम मोदी के भाषण पर तीखी प्रतिक्रिया दी है।  उन्होने कहा, ‘आज देश के लोगों को आर्थिक पैकेज के तौर पर एक बॉक्स दिखाया गया है, उसके बाहर की पैकेजिंग दिखाई गई है। पर इस पैकेज के अंदर लोगों के लिए है क्या यह अभी तक मालूम नहीं है ?’ सांसद डेरेके ओ ब्रायन ने कहा कि पैकेज में आम जनता के लिए है क्या यह हमें बाद में ही मालूम चलेगा।

उन्होंने कहा, ‘ पीएम ने कहा कि यह जीडीपी का 10 फीसदी है लेकिन क्या इसके साथ भी कुछ शर्तें जुड़ी हैं। अभी पैकेज को अच्छे से समझना बाकी है। इसमें लोगों को राहत पहुंचे इसके लिए कितनी राशि दी गई है।  राज्यों को राशि कैसे हासिल होगी अभी कुछ नहीं बताया गया है। इस पैकेज के लिए पैसे कहां से जुटाए जाएंगे। क्या कहीं यह कोई पुरानी योजना को नए नाम से तो नहीं बता दिया गया है।’ डेरेके ओ ब्रायन ने कहा कि अभी हमें विस्तृत जानकारी का इंतजार करना चाहिए। ब्रायन ने कहा, ‘यह कुछ ऐसा है जिसमें एचआर के द्वारा सीटीसी बताया जाता है लेकिन आखिर में कितनी राशि हाथ में आती है यह नहीं बताया जाता।’

बता दें कि आर्थिक पैकेज का ऐलान करते हुए पीएम ने कहा था कि 20 लाख करोड़ रुपये का यह पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को नई गति देगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि हाल में सरकार ने कोरोना संकट से जुड़ी जो आर्थिक घोषणाएं की थीं, जो रिजर्व बैंक के फैसले थे और आज जिस आर्थिक पैकेज का ऐलान हो रहा है, उसे जोड़ दें तो ये करीब-करीब 20 लाख करोड़ रुपए का है। ये पैकेज भारत की GDP का करीब-करीब 10 प्रतिशत है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE