दिल्ली पुलिस ने एंटी-सीएए एक्टिविस्ट इशरत जहां को किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को हिं’सा भड़काने के आरोप में गिरफ्तार किया है। कोर्ट में पेश के बाद उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इशरत जहां जगतपुरी इलाके की पूर्व निगम पार्षद रही हैं

मिली जानकारी के मुातबिक, उत्तर पूर्वी जिले में सोमवार और मंगलवार को सांप्रदायिक हिंसा के दौरान शाहदरा के जगतपुरी इलाके में भी दं’गा हुआ था। इस दंगे का आरोप कांग्रेस नेता और पूर्व पार्षद इशरत जहां उर्फ पिंकी पर लगा है। पुलिस ने पार्षद को कोर्ट में पेश किया।

कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि जब कानून के रक्षक आम जनता की निगाह में निशाना बनाए जाते हैं तो ऐसे कार्यों से पुलिस अधिकारियों की क्षमता में जनता का विश्वास कम होता है। कोर्ट ने कहा कि आप अपना कर्तव्य निभाओ। कोर्ट ने कहा गोली और पथराव के साथ पुलिस अधिकारियों को निशाना बनाया ये आरोप गंभीर है। एक कानूनी मिसाल के आधार पर जहान महिला होने के बावजूद जमानत के लायक नहीं।

जहान के वकील ने कहा कि वह 49 दिनों के लिए सीएए के खिलाफ एक शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन का हिस्सा थी। तो कोर्ट ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक शांतिपूर्ण विरोध हमारे जैसे जीवंत लोकतंत्र में आवश्यक अधिकार है।

वहीं आईपीएस अधिकारी एसएन श्रीवास्तव ने शनिवार को दिल्ली पुलिस आयुक्त के रूप में कार्यभार संभाल लिया है। एसएन श्रीवास्तव ने अमुल्य पटनायक की जगह ली है। अमुल्य पटनायक आज सेवानिवृत्त हुए हैं। पुलिस आयुक्त का कार्यभार संभालने के बाद एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता शहर में शांति बहाल करना और सांप्रदायिक सौहार्द वापस लाना है। मैं अपील करता हूं कि देशहित में सब सहयोग दें।

एसएन श्रीवास्तव ने दिल्ली हिंसा पर कहा कि इस प्रकार की घटनाएं दोबारा न हों इसके लिए हम ज्यादा से ज्यादा केस दर्ज कर रहे हैं। जो भी इसमें शामिल हैं उनको गिरफ्तार करने का प्रयास है। ताकि दोबारा इस प्रकार की घटना करने की हिम्मत कोई न कर सके।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE

[vivafbcomment]