LAC पर गहराया तनाव – लद्दाख में चीनी सैनिकों ने तैनात कीं तिगुनी नावें

कोरोना महासंकट के बीच चीन अपनी घटिया हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। हाल ही में हुई सैनिकों की झड़प के बाद चीन ने पूर्वी लद्दाख की झील पैंगोंग में पहले से ज्यादा तीन गुनी नावें तैनात कर दी हैं। इतना ही नहीं चीनी सैनिक वहां निर्माणाधीन भारतीय सड़क पर भी आपत्ति जता रहे हैं और एक निश्चित बिंदु से आगे बढ़कर गश्त कर रहे हैं।

जनसत्ता की रिपोर्ट के अनुसार, चीनी सैनिकों ने निगरानी कर रही नावों की संख्या बढ़ाकर तिगुनी कर दी हैं। इससे पहले वे लोग मात्र तीन नावों का ही इस्तेमाल कर रहे थे। भारतीय सेना के पास भी झील के 45 किलोमीटर लंबे पश्चिमी हिस्से, जो भारतीय नियंत्रण में हैं, की निगरानी के लिए इतनी ही संख्या में नावें हैं।

सूत्रों ने बताया, “पश्चिमी क्षेत्र (एलएसी) में लगभग एक तिहाई चीनी दखल पैंगोंग झील में होते हैं। चीनी सैनिकों ने झील पर नावों की संख्या में ही पर्याप्त वृद्धि नहीं की है, बल्कि उनका गश्त व्यवहार पहले के मुकाबले और अधिक आक्रामक हुआ है। जब अप्रैल के अंत से इस क्षेत्र को लेकर विवाद चल रहे हैं, तब इस तरह की हरकत रणनीतिक लिहाज से अच्छी बात नहीं है।”

पैंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर स्थित पहाड़ियां ही दोनों देशों के बीच मुख्य गांठ है, सेना इसे फिंगर्स कहती है। भारतीय सेना का दावा है कि फिंगर्स-8 के साथ ही वास्तविक नियंत्रण रेखा गुजरता है जबकि चीनियों का दावा है कि LAC फिंगर 2 से गुजरता है। दो अलग-अलग धारणाओं के बीच के इस क्षेत्र में जहां दोनों सेनाएं नियमित गश्त करती हैं, अक्सर हावी होने की कोशिश करती हैं।

झील के उत्तरी किनारे पर गश्ती को लेकर कुछ दिनों पहले दोनों सेना के बीच टकराव उत्पन्न हो गया था। सूत्रों ने बताया कि तब चीनी सेना ने जोर देकर भारतीय सैनिकों को फिंगर-2 पर रूकने को कहा था। जबकि, फिंगर-चार तक भारतीय सैनिक सामान्य रूप से गश्त करते रहे हैं। जब भारत ने चीनी हस्तक्षेप का विरोध किया तब फिंगर-5 के करीब दोनों सेना के बीच 5-6 मई की रात झड़प हो गई। भारत और चीन के करीब 250 सैनिकों के बीच लोहे की छड़ों, डंडों से लड़ाई हुई और पथराव भी हुआ जिसमें दोनों पक्षों के सैनिक जख्मी हुए थे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE