चीन ने तिब्बत से काला पानी तक की तोपों और सैनिकों की तैनाती, विदेश मंत्री ने भी किया दौरा

नई दिल्ली: भारत के साथ सीमा पर चल रहे तनाव के बीच चीन ने भारत से सटी सीमाओं पर तिब्बत से लेकर कालापानी घाटी के ऊपर तक बड़ी संख्या में तोपों और सैनिकों की तैनाती कर दी है।

भास्कर ने खुफिया सूत्रों के हवाले से कहा कि पाकिस्तान चीन से मीडियम-रेंज, लंबे समय तक चलने वाले मानव रहित एरियल व्हीकल ‘काई हॉन्ग -4’ (सीएच -4) थोक में खरीद रहा है। सीएच-4 इराकी सेना और रॉयल जॉर्डन वायु सेना में भी शामिल है। जुलाई के आखिरी हफ्ते में चीन ने तिब्बत में 4,600 मीटर की ऊंचाई पर आर्टिलरी गन की तैनाती की है।

ये भी पता चला है कि चीन ने 77 कांबैट कमांड के 150 लाइट कंबाइन्ड आर्म्स ब्रिगेड की तिब्बत के सैन्य जिले में तैनाती की है। कंबाइन्ड आर्म्स ब्रिगेड अमेरिकन ब्रिगेड कंबैट टीम का एडेप्टेशन है, जिससे विभिन्न सैन्य बलों को एक साथ काम करने में मदद मिलती है।

वहीं चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने तिब्बत में बॉर्डर इंफ़्रास्ट्रक्चर का निरीक्षण किया है। वांग यी ने शुक्रवार को तिब्बत में कम्युनिस्ट पार्टी के शीर्ष अधिकारी वू यिंग्जी के साथ तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र की सरकार क़िज़ला के अध्यक्ष से मुलाक़ात की और राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा करने की अपील की।

आधिकारिक समाचार पत्र तिब्बत डेली के हवाले से चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि वांग यी ने कहा कि राजनयिक मोर्चा तिब्बत में लोगों के साथ मिलकर राष्ट्रीय सुरक्षा और क्षेत्र में स्थिरता के लिए काम करेगा क्योंकि चीन के संपूर्ण विकास के लिए यह महत्वपूर्ण है।

बता दें कि भारत और चीन के बीच जारी विवाद कई दौर की मिलिट्री और डिप्लोमैटिक वार्ता के बाद भी सुलझ नहीं सका है। चीन ने सीमावती इलाकों में परमानेंट स्ट्रक्चर भी बना लिए हैं जो कि चीन द्वारा किए गए वादे के खिलाफ है। 15 जून को भारत और चीनी सेना के जवानों में हुई झड़प में भारत के 20 जवान मारे गए थे।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE