अरब देशों की नाराजगी के बाद केंद्र ने ट्विटर से बीजेपी सांसद का ट्वीट हटाने के लिए कहा

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने माइक्रो-ब्लॉगिंग सोशल मीडिया साइट ट्विटर से 121 ट्वीट को हटाने के लिए कहा है, इनमे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद तेजस्वी सूर्या का एक विवादित ट्वीट भी शामिल है। जिसमे उन्होने इस्लाम धर्म को लेकर विवादित टिप्पणी की थी।

अब केंद्र  सरकार ने 28 अप्रैल, 2020 को सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम की धारा 69 ए का हवाला देते हुए यह अनुरोध किया है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69A में उल्लेख किया गया है कि केंद्र सरकार या इसके द्वारा अधिकृत एक अधिकारी लिखित रूप में दर्ज एक आदेश के माध्यम से, किसी सरकारी या मध्यस्थ की किसी भी एजेंसी को निर्देशित करके, कंप्यूटर संसाधन पर जानकारी तक सार्वजनिक पहुंच को अवरुद्ध कर सकता है। सरकार द्वारा निवेदन किए जाने वाले ट्वीट्स में पाकिस्तान समर्थक सामग्री के दक्षिणपंथी हैंडल शामिल हैं।

कर्नाटक के तेजस्वी सूर्या 2019 में लोकसभा चुनाव जीतने वाले सबसे कम उम्र के नेता थे। उन्होंने 2015 में विवादित ट्वीट किया था। सूर्या ने लिखा था, ‘संक्षेप में: यह सच है कि आतंक का कोई धर्म नहीं है।  लेकिन आतंकवादी का निश्चित रूप से एक धर्म है और ज्यादातर मामलों में यह इस्लाम है।’

इसके अलावा उन्होने एक और ट्वीट किया था। जिसमे उन्होने अरब महिलाओं का मजाक उड़ाया था। तेजस्वी सूर्या ने लिखा था, ‘95% अरब महिलाओं ने पिछले कुछ सौ सालों में कभी भी शारीरिक संबंध नहीं बनाए हैं। उन्हें प्यार नहीं, बल्कि बच्चे पैदा करने के लिए शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर किया जाता है।’

इस ट्वीट के वायरल होने के बाद अरब देशो से बीजेपी सांसद के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है। एक अरबी शख्स ने पीएम मोदी को ट्वीट कर कहा, @PMOIndia आदरणीय प्रधानमंत्री @narendramodi अरब जगत के साथ भारत का रिश्ता आपसी सम्मान का रहा है। क्या आप अपने सांसदों को सार्वजनिक रूप से हमारी महिलाओं को अपमानित करने की अनुमति देते हैं? हम आपको उनकी अपमानजनक टिप्पणी के लिए @Tejasvi_Surya के खिलाफ तत्काल दंडात्मक कार्रवाई की उम्मीद करते हैं।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE