चीन सीमा को जोड़ने वाली सड़क पर टूटा सामरिक महत्व वाला वैली ब्रिज

चीन के साथ सीमा पर विवाद के बीच उत्तराखंड के सीमांत जनपद पिथौरागढ़ के मुनस्यारी तहसील में चीन सीमा को जोड़ने वाला वैली ब्रिज (Valley Bridge) सोमवार की सुबह को टूट गया। पुल टूटने की घटना उस समय हुई जब पुल से एक ट्राला पोकलैंड मशीन लेकर गुजर रहा था। हादसे के बाद ट्राले पर लदी पोकलैंड मशीन नदी में समा गई।

इस हादसे में ट्राला चालक सहित 2 लोग गंभीर रूप से घा’यल हुए हैं। जिनका मुनस्यारी चिकित्सालय में इलाज चल रहा है। इन दिनों चीन बॉर्डर को जोड़ने वाली मिलम रोड पर काम तेजी से चल रहा है, जिसके लिए भारी-भरकम मशीनों को बॉर्डर पर पहुंचाया जा रहा है। यह ब्रिज टूटने से चीन सीमा पर जाने वाले आईटीबीपी और सेना के जवानों को दिक्कत आएगी।

मुनस्यारी के तहसीलदार दिनेश जोशी ने न्यूज़ 18 को बताया कि पुल ओवरलोडिंग के कारण टूटा है। इस हादसे में घायल दोनों लोगों की हालत फिलहाल स्थिर है। स्थानीय जन प्रतिनिधियों का कहना है कि वाहन चालक को पुल पर चढ़ने से पहले ही खतरे से अगाह भी किया गया लेकिन वह नहीं माना।

लिपुलेख तक सड़क काटने के बाद बीआरओ ने मिलम रोड कटिंग का काम तेज किया हुआ है। मुनस्यारी से मिलम तक कि दूरी 65 किलोमीटर है। जिसमें 28 किलोमीटर की रोड कट चुकी है। लेकिन मुनस्यारी और मिलम के बीच लास्पा में 37 किलोमीटर की कटिंग होनी शेष है। इस इलाके में पहाड़ियां बहुत हार्ड बताई जा रही हैं। जिन्हें काटने के लिए भारी-भरकम मशीनों को बॉर्डर पर पहुंचाया जा रहा है।

मुनस्यारी-मिलम मोटरमार्ग को काटने का काम बीआरओ ने 2008 से शुरू किया है। सेनर नाले में बने वैली ब्रिज के टूटने से सड़क कटिंग का काम प्रभावित होने की आशंका है। यही नहीं, आईटीबीपी और सेना के जवानों को भी चीन सीमा तक पहुँचने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ेगी। बीआरओ का दावा है कि टूटे पुल के स्थान पर जल्द ही नया वैली ब्रिज बना दिया जाएगा।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE