भीम आर्मी चीफ आरएसएस हेडक्वाटर के सामने करेंगे रैली, हाईकोर्ट ने दी इजाजत

नागपुर: बंबई हाईकोर्ट की नागपुर बेंच ने शुक्रवार को भीम आर्मी को 22 फरवरी को आरएसएस हेडक्वाटर के सामने रेशिमबाग मैदान में बैठक करने की अनुमति दे दी। हालांकि, अदालत ने कुछ शर्तों के साथ यहां बैठक की अनुमति दी है। जिसमे यह कहा गया कि यह बैठक धरना या विरोध प्रदर्शन में तब्दील नहीं होना चाहिए और यहां कोई भड़काऊ भाषण नहीं दिया जायेगा।

बताया जा रहा है कि भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद बैठक को संबोधित कर सकते हैं। आजाद ने 18 फरवरी को उच्च न्यायालय में रेशम बाग में एक रैली आयोजित करने की इजाजत मांगते हुए याचिका दायर की थी। जिसके बाद अदालत ने महाराष्ट्र सरकार और नागपुर के पुलिस आयुक्त को नोटिस जारी किया था।

न्यायाधीश सुनील शुक्रे और न्यायमूर्ति माधव जामदार की पीठ ने कहा कि दलित संगठन की याचिका पर उसे कुछ शर्तों के साथ बैठक करने इजाजत दी जाती है। अदालत ने अपने आदेश में कहा, “शर्तों के साथ अनुमति दी जाती है। यह केवल कार्यकर्ताओं की बैठक होगी। यह धरना अथवा प्रदर्शन में तब्दील नहीं होना चाहिए, वहां कोई भडकाऊ भाषण नहीं होना चाहिए और वातावरण शांतिपूर्ण बना रहना चाहिए।

इसके अलावा चंद्रशेखर आजाद को उपर्युक्त शर्तों पर एक हलफनामा देना चाहिए। पीठ ने चेतावनी दी है कि शर्तों का उल्लंघन होने पर आपराधिक कार्रवाई के साथ ही कोर्ट की अवमानना की कार्यवाही भी की जाएगी। सभा की इजाजत मिलने पर  चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि वह कल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) दफ्तर के बाहर तिहंरा फहराएंगे।

चंद्रशेखर आजाद ने ट्वीटर पर लिखा, ‘मैं कल 2 बजे रेशमबाग नागपुर आ रहा हूं। फर्जी राष्ट्रवादियों का संगठन आरएसएस जिसने आज तक तिरंगे को सम्मान नहीं दिया। कल हम उनके हेडक्वार्टर के सामने तिरंगा फहराएंगे। मैं चाहूंगा कि कल सभी साथी रेशमबाग तिरंगा लेकर पहुंचे और बता दें कि इनके भगवे पर हमारा तिरंगा भारी है।’


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE