लॉकडाउन में खुला अमृतसर का भद्रकाली मंदिर, जमा हुए बड़ी संख्या में श्रद्धालु

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के चलते जारी लॉक डाउन-4 में आंशिक छुट को देश की जनता इस तरह से ले लिया कि देश में अब लॉकडाउन ही नहीं है। जिसका नतीजा ये हुआ कि कई जगहों पर भीड़ जुट गई और सोशल डिस्टेन्सिंग का भी पालन नहीं हुआ।

ताजा मामला अमृतसर के स्वर्ण मंदिर और प्राचीन भद्रकाली मंदिर से जुड़ा है। जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु एकत्र हो गए। मंदिर के पुजारी ने बताया कि हमने लोगों से घर में रहने की अपील की, लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं थे। वे दर्शन करने की प्रार्थना कर रहे थे। हमने भी इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा। श्रद्धालु जल्दी आएं और जाएं, इसको सुनिश्चित किया।

दरअसल, अमृतसर के प्राचीन भद्रकाली मंदिर में हर साल एक मेला लगता है जो इस साल भी शुरू किया गया है, जिमसें आने वाले श्रद्धालु सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाते हुए दिखाई दिए। जबकि पंजाब सरकार ने अपने आदेश में साफ किया है कि धार्मिक स्थलों को बंद रखा जाएगा।

इस बारे में अमृतसर के भद्रकाली मंदिर के मैनेजमेंट और स्थानीय प्रशासन का कहना है कि इस प्राचीन ऐतिहासिक मेले के लिए परमिशन ली गई है, लेकिन इस मामले को लेकर ना तो मंदिर कमेटी और ना ही अमृतसर प्रशासन कैमरे पर कुछ भी बोलने को तैयार है।

मालूम हो कि केंद्र सरकार ने लॉकडाउन फेज- चार 31 मई तक बढ़ा दिया है। गृह मंत्रालय ने कहा है कि कोई भी राज्य या केंद्र शासित प्रदेश 31 मई तक लागू देशव्यापी लॉकडाउन के लिए जारी दिशा-निर्देशों को कम नहीं करेगा।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने कहा कि ‘‘जैसा कि मेरे पहले के पत्रों में स्पष्ट किया गया है, मैं फिर से दोहराना चाहूंगा कि राज्य और केंद्रशासित प्रदेश एमएचए द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों को कम या उनमें बदलाव नहीं कर सकते हैं। स्थिति के आकलन के आधार पर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश, विभिन्न क्षेत्रों में कुछ अन्य गतिविधियों को प्रतिबंधित कर सकते हैं।’’


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE