ओवैसी की रैली में जबरन पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाली लड़की को मिली जमानत

बेंगलुरु की एक अदालत ने गुरुवार रात अमूल्या लियोना को जमानत दे दी। अमूल्या लियोना ने कर्नाटक में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आयोजित रैली में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाया था। इस दौरान मंच पर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख एवं हैदराबाद से पार्टी के सांसद असदु्दीन ओवैसी थे। उन्होने अमूल्या को ये नारा लगाने से रोका भी था।

दरअसल तय वक्त के भीतर आरोपी छात्रा के खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं होने पर उसके वकीलों ने सीआरपीसी की धारा 167 (2) के तहत कोर्ट में याचिका दाखिल की। जिसके तहत पुलिस को दिए गए 60/90 दिनों के भीतर अगर किसी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं की जाती है तो वो जमानत के हकदार होंगे।

याचिकाकर्ता की ओर से अमूल्या के वकील ने कहा, ‘याचिकाकर्ता सिर्फ 19 साल की महिला है और वह बेंगलुरु के एक निजी कॉलेज में पढ़ रही है। उसने ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए, लेकिन उसने कभी भी पाकिस्तान को अपना देश नहीं बताया।’

इससे पहले सिटी सिविल एंड सेशंस कोर्ट के जस्टिस विद्याधर शिरहट्टी ने पहले अमूल्या लियोना द्वारा दायर जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। जमानत की अर्जी खारिज कर दी गई क्योंकि पुलिस अधिकारियों ने अभी तक चार्जशीट दाखिल नहीं की थी। अब सिटी सिविल कोर्ट ने सशर्त जमानत दे दी है।

अमूल्या के वकील और वरिष्ठ अधिवक्ता एवं पूर्व राज्य लोक अभियोजक बी टी वेंकटेश ने कहा कि मैंने सुना है कि जमानत दे दी गई है, लेकिन मुझे अभी आदेश की प्रति नहीं मिली है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE