सीएए विरोधी पोस्ट शेयर करने पर बांग्लादेशी छात्र को भारत छोड़ने का निर्देश

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ एक पोस्ट शेयर करने पर गृह मंत्रालय ने विश्व भारती विश्वविद्यालय की एक बांग्लादेशी छात्रा को देश छोड़कर जाने को कहा है।

गृह मंत्रालय ने विश्व भारती विश्वविद्यालय की बांग्लादेशी छात्रा अफसरा अनिका मीम को ‘‘सरकार विरोधी गतिविधियों’’ में बार-बार शामिल होने के लिए देश छोड़कर जाने को कहा है। केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्नातक की छात्रा अफसरा अनिका मीम को गृह मंत्रालय के तहत आने वाले विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय, कोलकाता ने ‘भारत छोड़ने का नोटिस दिया है।

नोटिस में कहा गया है कि मीम ने वीजा उल्लंघन भी किया। इसमें कहा गया है, ‘वह सरकार विरोधी गतिविधियों में शामिल पाई गई और ऐसी गतिविधि उसके वीजा का उल्लंघन है। विदेशी नागरिक भारत में नहीं रह सकती, उन्हें इस आदेश की प्राप्ति के 15 दिनों के भीतर भारत छोड़ना होगा। इसमें मीम को नोटिस मिलने की तारीख के 15 दिनों के भीतर भारत छोड़ने के लिए कहा गया है। नोटिस में यह नहीं बताया गया कि वह किस तरह की गतिविधियों में शामिल रही।

बांग्लादेश के कुश्तिया जिले की रहने वाली महिला ने 2018 में विश्वविद्यालय के बैचलर ऑफ डिजाइन पाठ्यक्रम में दाखिला लिया था। उसे 14 फरवरी की तारीख का यह नोटिस बुधवार को मिला। उसके एक दोस्त ने यह जानकारी दी। स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के एक सदस्य ने बताया कि मीम ने दिसम्बर में परिसर के भीतर सीएए विरोधी प्रदर्शनों के संबंध में फेसबुक पर कथित तौर पर कुछ पोस्ट साझा किए थे और तब से उसे सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा था।

बांग्लादेशी छात्रा ने बताया, मैं इस बारे में अभी बात करने की स्थिति में नहीं हूं। कोलकाता में बांग्लादेश के उप उच्चायोग के एक सूत्र ने बताया कि उसे इस संबंध में अभी तक कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है। विश्व भारती विश्वविद्यालय के अधिकारियों से भी संपर्क नहीं हो पाया है। विश्वविद्यालय के एक शिक्षक ने इस कदम को ‘‘कठोर’’ बताया और कहा कि यह ‘‘किसी भी असंतुष्ट आवाज’’ को दबाने की कोशिश है।


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE