तबलीगी जमात के खिलाफ अफवाह फैलाने को लेकर बजरंग दल का कार्यकर्ता गिरफ्तार

निज़ामुद्दीन मरकज मामले के सामने आने के बाद तबलीगी जमात के खिलाफ अफवावों और भड़काऊ बयानों की बाढ़ सी आ गई है। जिसके चलते देश भर में मुसलमानों को हिं’सा का शिकार बनाया जा रहा है। हाल ही में राजधानी दिल्ली में  दिलशाद नाम के युवक की मॉब लिंचिंग हो गई।

इसी बीच बिहार के मुंगेर तबलीगी जमात में शामिल होने वाले एक परिवार के बारे में गलत जानकारी फैलाने वाले बजरंग दल के एक कार्यकर्ता को गिरफ्तार किया गया। मुंगेर के पुलिस उपमहानिरीक्षक मनु महाराज ने तारापुर पुलिस थाने के तहत अपने बिहमा गाँव से एक गौतम सिंह कुशवाह की गिरफ्तारी की पुष्टि की। कुशवाहा ने शनिवार को एक मुस्लिम परिवार के एक सदस्य के सकारात्मक परीक्षण के बारे में फेसबुक पर गलत जानकारी पोस्ट की थी। कुशवाहा बजरंग दल के जिला स्तरीय पदाधिकारी हैं।

गाजीपुर, तारापुर से परिवार के एक सदस्य ने कहा कि अफवाहें फैलने के कारण पुलिस काफी दबाव डाल रही थी, उनके परिवार के छह सदस्यों का मेडिकल परीक्षण तारापुर के रेफरल अस्पताल में कराया गया। उनमें से किसी में भी COVID -19 का कोई लक्षण नहीं था, न ही कोई ट्रेवल हिस्ट्री थी। हालांकि सभी को क्वारंटाइन के तहत रहने की सलाह दी गई।

गृह विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि उन्हें तबलीगी जमात की बैठक में शामिल होने वाले लोगों की पांच सूची मिली थी, लेकिन उनमें से कोई भी तारापुर, मुंगेर का नहीं है। स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव संजय कुमार ने कहा: “32 लोगों ने अब तक सकारात्मक परीक्षण किया, कोई भी तारापुर, मुंगेर का नहीं है।”


    देश के अच्छे तथा सभ्य परिवारों में रिश्ता देखें - Register FREE