No menu items!
29.1 C
New Delhi
Saturday, October 23, 2021

देश में अब भी कम से कम 15 करोड़ बच्चे औपचारिक शिक्षा प्रणाली से बाहर: धर्मेंद्र प्रधान

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गुरुवार को कहा कि कम से कम 15 करोड़ बच्चे और युवा देश की औपचारिक शिक्षा प्रणाली से बाहर हैं और लगभग 25 करोड़ आबादी साक्षरता की प्राथमिक परिभाषा से नीचे है।

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा अपनी वार्षिक बैठक के दौरान आयोजित “नौकरी सृजन और उद्यमिता” पर एक सत्र को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि “अगर हम सरकारी, निजी और धर्मार्थ स्कूलों, आंगनवाड़ी, उच्च शिक्षा संस्थानों और पूरे कौशल पारिस्थितिकी तंत्र में नामांकित 3-22 वर्ष की आयु के बीच के बच्चों और युवाओं की संख्या को ध्यान में रखते हैं, तो सभी वर्टिकल से संचयी आंकड़ा लगभग 35 करोड़ है जबकि (देश की) जनसंख्या विशेष आयु वर्ग में लगभग 50 करोड़ है।”

उन्होंने कहा, “इसका मतलब है कि कम से कम 15 करोड़ बच्चे और युवा औपचारिक शिक्षा प्रणाली से बाहर हैं। हम उन्हें शिक्षा प्रणाली में लाना चाहते हैं।” शिक्षा मंत्री ने कहा कि देश की आजादी के बाद हुई जनगणना में पता चला है कि उस समय की 19 फीसदी आबादी साक्षर थी।

उन्होंने कहा, “स्वतंत्रता दिवस के 75 साल बाद, साक्षर आबादी के आंकड़े 80 फीसदी तक पहुंच गए हैं। इसका मतलब है कि 20 फीसदी आबादी या लगभग 25 करोड़ अभी भी साक्षरता की प्राथमिक परिभाषा से नीचे हैं।”

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) में विभिन्न प्रावधानों के बारे में विस्तार से बताते हुए प्रधान ने कहा कि यह सिर्फ एक दस्तावेज नहीं है, बल्कि अगले 25 वर्षों के लिए “स्वतंत्रता के 100 साल पूरे होने तक कुछ लक्ष्यों” को प्राप्त करने का रोडमैप है।

प्रधान, जो कौशल विकास मंत्री भी हैं, ने कहा कि सरकार ने पहली बार शिक्षा और कौशल विभागों को संयुक्त किया है। उन्होने कहा, “इस कदम ने अच्छी आजीविका के लिए एक नया दृष्टिकोण बनाया है।”

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Get in Touch

0FansLike
2,988FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Posts