अर्नब गोस्वामी की बड़ी मुसीबत, फ्रजी टीआरपी के’स में बने आरोपी

दो महीने बाद रिपब्लिक चैनल पर वापसी करते ही रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, फ्रजी टीआरपी केस में मुंबई पुलि’स ने अपनी सप्लीमेंट्री चार्जशीट में उन्हे आरोपी बनाया है। 9 महीने पहले मुंबई पु’लिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज की थी।

मजिस्ट्रेट कोर्ट में जमा की गई 1800 पेज की सप्लीमेंट्री चार्जशीट में गोस्वामी और चार अन्य का नाम दिया गया है। अन्य आरोपियों में सीओओ प्रिया मुखर्जी, शिवेंदु मुलेकर और शिव सुंदरम शामिल हैं। जिन्हें पहले वांछित आरोपी के रूप में दिखाया गया।

अब तक इस मामले में पु’लिस 15 लोगों के खिलाफ चा’र्जशीट दायर कर चुकी है। जिसमें बार्क (BARC) के सीईओ पार्थो दास गुप्ता और रिपब्लिक टीवी सीईओ विकास खानचंदानी भी शामिल हैं। बता दें कि को’रोना से संक्रमित पाये गए अर्नब गोस्वामी ने दो महीने बाद अपने चैनल पर वापसी की है।

उन्होने खुद बताया “मैं आपके साथ साझा करके शुरू करता हूं कि मैं दूर क्यों था। या मुझे यह कहना चाहिए कि मुझे दूर रहने के लिए क्यों मजबूर किया गया?” उन्होने कहा, “नहीं, मैं लंबी छुट्टी पर नहीं था, मैं विदेश यात्रा नहीं कर रहा था। अप्रैल के अंत और मई की पहली माही के दौरान, मई के अधिकांश भाग में, वास्तव में, मैंने कोरो’ना से ल’ड़ाई लड़ी। मैं कोरो’ना वायरस से पीड़ित हो गया था।”

अर्नब ने कहा कि जब उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था तो उन्हें उनके डॉक्टरों ने सख्ती से सलाह दी थी कि वे अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद अपने स्वास्थ्य को ‘बहाल’ करने के लिए आराम करें। एंकर ने कहा कि उन्होंने अपना ‘अच्छा समय’ वापस पा लिया है और हर रात ‘बिना किसी असफलता’ के अपने समर्थकों के साथ रहने के लिए ‘पूरी तरह से तैयार’ हैं।