एएमयू ने छात्रों को हॉस्टल खाली कर घर लौटने को कहा, बड़ी वजह आई सामने

0
330

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने छात्रों को अपने छात्रावासों को खाली करने और कोवि’ड ​​​​-19 महामारी के मद्देनजर घर लौटने के लिए कहा है। हालांकि एक छात्र नेता ने कड़ी आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को खराब कनेक्टिविटी के कारण ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा।

इस आशय का निर्णय गुरुवार को विश्वविद्यालय के शीर्ष अधिकारियों की एक ऑनलाइन बैठक के दौरान लिया गया और फिर शुक्रवार को विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार अब्दुल हमीद द्वारा आदेश जारी किया गया। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के प्रवक्ता प्रोफेसर शफी किदवई ने कहा कि यह “छात्रों और उनके स्वास्थ्य के हित में है कि वे छात्रावास खाली करें और अपने घरों की सुरक्षा में रहें”।

विज्ञापन

एएमयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन ने शनिवार को कहा कि हॉस्टल में रहकर ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रों के छात्र अपनी ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने में सक्षम हैं, कनेक्टिविटी के मुद्दों के कारण अपने मूल स्थानों से ऐसा करना बहुत मुश्किल होगा।

उन्होंने कहा कि उनके लिए प्रवेश और अन्य औपचारिकताएं पूरी करना भी मुश्किल हो जाएगा, उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान छात्रों को संक्रमण होने का ख’तरा होगा। हसन ने यह भी बताया कि उत्तर प्रदेश में महामारी के मद्देनजर प्रतिबंध लगाए जाने के समय बड़ी संख्या में छात्र विभिन्न छात्रावासों में रह रहे थे।

इसके अलावा, परिसर में छात्रों को को’विड टी’काकरण सहित सर्वोत्तम चिकित्सा सहायता मिल रही है, जो अधिकांश को ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध नहीं होगी, उन्होंने एएमयू अधिकारियों से अपने निर्णय की समीक्षा करने का आग्रह किया।

रजिस्ट्रार ने कहा है कि प्रोवोस्ट द्वारा छात्रावास में रहने वाले छात्रों के माता-पिता को पत्र भेजा जाएगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनके बच्चे छात्रावास खाली कर घर वापस आ जाएं। रजिस्ट्रार ने बताया कि सभी अभिभावकों को पत्र भेजा जाएगा, जिसमें कहा गया है कि महामारी के मद्देनजर छात्रों के स्वास्थ्य की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यह कदम आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here