अफगानी राजदूत से पीएम मोदी बोले – राजस्थान के हरिपुरा जाइए तो गुजरात के हरिपुरा भी

भारत में अफगानिस्तान के राजदूत फरीद मामुन्दजई को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के हरिपुरा गाँव जाने की सलाह दी है। पीएम मोदी ने ये सलाह उन्हे राजस्थान के हरिपुरा जाने की सलाह के बाद दी है।

दरअसल, मामुन्दजई ने आज एक ट्वीट कर बताया कि कुछ दिन पहले मैं इलाज के लिए एक डॉक्टर के पास गया था। यह जानने पर कि मैं भारत में अफ़ग़ान राजदूत हूँ, डॉक्टर ने मेरे इलाज के लिए कोई भी भुगतान स्वीकार करने से इनकार कर दिया। जब मैंने कारण पूछा तो मुझे बताया गया कि मैं अफगानिस्तान के लिए बहुत कम कर सकता हूं और यानी मैं एक भाई को चार्ज नहीं करूंगा। आभार व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं थे। यह भारत है; प्यार, सम्मान, मूल्य और करुणा। आपके कारण मेरे दोस्त, अफगान थोड़ा कम रोते हैं, थोड़ा और मुस्कुराते हैं और बहुत अच्छा महसूस करते हैं।

इस पर एक शख्स बालकौर सिंह ढिल्लोन ने ट्वीट कर अफगानी राजदूत को अपने गांव हरिपुरा आने का न्योता दिया। ज्सिके जवाब में फरीद मामुन्दजई ने पूछा कि ये सूरत का हरिपुरा गांव है तो शख्स ने बताया कि नहीं ये राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में है, जो पंजाब की सीमा से सटा हुआ है। तब अफगानी राजदूत ने कहा कि राजस्थान के साथ अफगानिस्तान का लंबा इतिहास रहा है और स्थिति सामान्य होते ही मैं हरिपुरा जरूर आऊंगा।

इस बीच प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने ट्वीट कर अफगानी राजदूत से कहा कि आप किसान के गांव भी जाइए और आप सूरत के हरिपुरा गांव भी जाइए, वो भी अपने आप में इतिहास समेटे हुए है।

बता दें कि सूरत का हरिपुरा का विशेष संबंध नेताजी सुभाष चन्‍द्र बोस के साथ रहा है। 1938 में कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर सुभाष चन्द्र बोस का स्वागत 51 बैलों से खींचे हुए रथ में किया गया था।